close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कमलेश तिवारी: 1 आरोपी करता है डिलिवरी ब्‍वॉय का काम, दूसरा है- मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव

दोनों गुजरात-राजस्थान सीमा स्थित सूरत के शामलजी के रहने वाले हैं.

कमलेश तिवारी: 1 आरोपी करता है डिलिवरी ब्‍वॉय का काम, दूसरा है- मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव

अहमदाबाद: कमलेश तिवारी हत्‍याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) में गुजरात एटीएस ने गुजरात-राजस्‍थान बॉर्डर के शामलजी से दोनों मुख्‍य आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने हत्‍या का गनाह कबूला. दोनों सूरत के रहने वाले हैं. हिंदू महासभा के पूर्व नेता व हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या मामले में गुजरात आतंकवाद-रोधी दस्ता (एटीएस) ने मंगलवार को कहा कि उसने दो मुख्य आरोपियों को उस समय गिरफ्तार कर लिया, जब वे राजस्थान से गुजरात में प्रवेश कर रहे थे.

गुजरात पुलिस के अनुसार, एटीएस ने जिन दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है, उनकी पहचान अशफाक हुसैन जाकिर हुसैन शेख (34) और मोइनुद्दीन खुर्शीद पठान (27) के रूप में की गई है. दोनों गुजरात-राजस्थान सीमा स्थित सूरत के शामलजी के रहने वाले हैं. एटीएस ने कहा कि दोनों उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर से नेपाल पहुंचे और वहां से राजस्थान होते हुए गुजरात में प्रवेश कर रहे थे.

LIVE TV

एटीएस अधिकारियों ने कहा कि शेख मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव के रूप में काम करता है, जबकि पठान फूड डिलिवरी ब्‍वॉय (खाना पहुंचाने वाला) का काम करता है. हत्या के कारण के बारे में एटीएस ने कहा कि शुरुआती जांच में पता चला है कि उन्होंने तिवारी के आपत्तिजनक बयान के प्रतिशोध में इस अपराध को अंजाम दिया.

डीआईजी हिमांशु शुक्ला के नेतृत्व वाली गुजरात एटीएस टीम ने कहा कि दोनों को परिवार के सदस्यों से पूछताछ और तकनीकी व फिजिकल सर्विलांस के आधार पर पकड़ा गया. दोनों को यूपी पुलिस के हवाले कर दिया जाएगा.

इससे पहले हत्या की साजिश रचने वाले गुजरात के सूरत निवासी रशीद अहमद पठान उर्फ राशिद, मौलाना मोहसिन शेख व फैजान यूनुस को मंगलवार को लखनऊ की अदालत में पेश किया गया. लखनऊ पुलिस तीनों आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर आई है. पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि तीनों साजिशकर्ताओं को कड़ी सुरक्षा में एक गोपनीय स्थान पर रखा गया है. उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी एएसपी पश्चिम विकास चंद्र त्रिपाठी को सौंपी गई है.

उन्होंने बताया कि तीनों साजिशकर्ताओं को रविवार देर रात लखनऊ लेकर आया गया था. इस बीच कानपुर देहात का टैक्सी चालक, कानपुर के रेल बाजार स्थित मोबाइल फोन दुकानदार समेत तीन लोगों को भी लखनऊ लाया गया. एसआईटी ने साजिशकर्ताओं व उपरोक्त तीन संदिग्धों से करीब चार घंटे तक पूछताछ की. 

(इनपुट: एजेंसी आईएएनएस के साथ)