close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कमलेश तिवारी मर्डर केस के तार UP, गुजरात के बाद अब महाराष्ट्र से भी जुड़े

 हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी मर्डर केस (Kamlesh Tiwari Murder case) के तार उत्तर प्रदेश गुजरात के बाद अब महाराष्ट्र से भी जुड़ गए हैं.

कमलेश तिवारी मर्डर केस के तार UP, गुजरात के बाद अब महाराष्ट्र से भी जुड़े
महाराष्ट्र एटीएस ने नागपुर से एक शख्स को हिरासत में लिया है.

लखनऊ: हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी मर्डर केस (Kamlesh Tiwari Murder case) के तार उत्तर प्रदेश गुजरात के बाद अब महाराष्ट्र से भी जुड़ गए हैं. महाराष्ट्र एटीएस ने नागपुर से एक शख्स को हिरासत में लिया है. सूत्रों के मुताबिक, गुजरात से गिरफ्तार कमलेश तिवारी की हत्या के मास्टरमाइंड रशीद ने नागपुर में मौजूद शख्स को फोन पर हत्या के बाद जानकारी दी थी. शख्स को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.  

रशीद को इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है. हत्या का प्लान दुबई में बनाया गया और सूरत में इसकी तैयारी की गई. बाद में इस प्लान को लखनऊ में अंजाम दिया गया. गुजरात ATS ने सूरत के लिम्बायत इलाके से रशीद, मोहसिन और फैज़ल को गिरफ्तार किया है. रशीद के कराची पकिस्तान के कनेक्शन सामने आए है. रशीद दुबई की जिस कंपनी में काम करता था उसका मालिक पकिस्तान के कराची का होने का खुलासा हुआ है. रशीद कराची गया है या नहीं इस मामले में ATS पूछताछ कर रही है. आतंकी संगठनो को लेकर भी ATS ने जांच शुरू करदी है.

सूरत से ख़रीदे गए मिठाई के बक्से के ज़रिये पुलिस आरोपियों तक पहुंची. दरअसल, 2015 में कमलेश तिवारी ने पैगम्बर साहब के खिलाफ टिपणी की थी. उस दौरान रशीद पठान के भाई मयुदिन के साथ मील कर हत्य करने का सोचा था लेकिन वो इसे अंजाम नहीं दे पाए थे. 

2017 में रशीद दुबई गया जहां वो आईटी कंपनी में नौकरी करता था. 2 महीने पहले रशीद सूरत आया था. सूरत आने के बाद रशीद ने फिर से कमलेश तिवारी की हत्या का प्लान बनाया जिसके लिए उसने अपनी ही बिल्डिंग में रह रहे मोलाना मोहसिन से बात की थी. मोहसिन में कहा कि शरीयत और कुरान में "वाजिब-ऐ-क़त्ल" बोला गया है जो कहता है कि इनकी हत्या करने में कोई पाप नहीं है. 

मौलाना की बात से कट्टर हुए रशीद ने खुद कमलेश की हत्या करने का फैसला लिया. उसने अपने भाई मयुदिन से बात की लेकिन उसने इनकार कर दिया और अशफाक के साथ इस जुर्म को अंजाम देने रशीद चला गया. फैज़ान और रशीद ने साथ में सूरत की धरती स्वीट शॉप से मिठाई खरीदने गए थे जिसके बाद सूरत से ही पिस्तौल और चाकू खरीदकर हत्यार को मिठाई के बॉक्स में छिपा दिया. 16 अक्टूबर को रात 9.55 बजे ट्रेन से लखनऊ जाने के लिए रवाना हुए. ट्रेन में मुसाफरी के दौरान दाढ़ी निकालकर वेश बदल लिया और भगवा कपड़े पहनकर हिन्दू का वेश धारण कर लिया.

LIVE टीवी: 

डेढ़ दिन तक लखनऊ में रुकने के बाद ह्त्या कर फरार हो गए. असफाक और रशीद का भाई मयुदिन अभी तक फरार है जिन पर उत्तर भारत में छिपे होने की आशंका है. लखनऊ के सीसीटीवी में दोनों के साथ दिख रही महिला के पहचान नहीं हो पाई है और उस महिला का इस केस में क्या रोल है उसके बारे में भी पुलिस को फिलहाल कोई जानकारी नहीं है.