close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कमलेश तिवारी की पत्नी बोलीं, 'हत्यारों को मिले फांसी, नहीं तो हमें सौंप दें, निपट लेंगे'

किरण तिवारी ने कहा कि अगर किसी भाजपा नेता के साथ ऐसी घटना होगी, तो मेरी पार्टी उनको 30 लाख रुपए देगी.

कमलेश तिवारी की पत्नी बोलीं, 'हत्यारों को मिले फांसी, नहीं तो हमें सौंप दें, निपट लेंगे'
किरण तिवारी ने कहा कि सरकार से विनती है कि आरोपियों को जल्द से जल्द फांसी दी जाए. अगर ऐसा न कर सकें, तो उन्हें हमारे हवाले कर दें.

लखनऊ: कमलेश तिवारी की पत्नी किरण तिवारी ने हिन्दू समाज पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार प्रेस को संबोधित किया. किरण तिवारी ने इस दौरान उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर संविधान में आरोपितों को फांसी देने का प्रवधान नहीं है, तो हत्यारों को हमें सौंप दें. इसी के साथ किरण तिवारी ने पुलिस की कार्यवाही पर भी सावल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि हत्यारोपियों में से किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया. इन सभी लोगों ने आत्मसमर्पण किया था. वहीं, उन्होंने कहा कि कमलेश तिवारी हत्याकांड में शिव कुमार गुप्ता का कोई हाथ नहीं है. उन्होंने कहा कि शिव कुमार गुप्ता से मंदिर की जमीन को लेकर हमारा विवाद है.

किरण तिवारी ने कहा कि सरकार से विनती है कि आरोपियों को जल्द से जल्द फांसी दी जाए. अगर ऐसा न कर सकें, तो उन्हें हमारे हवाले कर दें. इसी के साथ उन्होंने प्रदेश सरकार पर फिर से निशाना साधा. उन्होंने कहा कि मैंने सरकार से कोई भीख नहीं मांगी थी. उनका चेक वैसे ही रखा हुआ है. उन्होंने कहा कि ये शासन और प्रशासन की कमी थी कि कमलेश तिवारी को सुरक्षा नहीं दी गई. उन्होंने कहा कि पुलिस की भी बड़ी लापरवाही है. किरण तिवारी ने हमला जारी रखते हुए कहा कि हम कार्यवाही पर सवाल न उठाएं, इसलिए सरकार ने रुपये देकर हमारा मुंह बंद करने का प्रयास किया है.

किरण तिवारी ने कहा कि अगर किसी भाजपा नेता के साथ ऐसी घटना होगी, तो मेरी पार्टी उनको 30 लाख रुपए देगी. उन्होंने कहा कि हमारी मांग थी कि सीएम योगी आदित्यनाथ हमारे घर आएं. लेकिन, वह नहीं आए. उल्टा हमें वहां बुलवाया गया. इसी के साथ उन्होंने कहा कि हमारी सारी मांगे सरकार ने पूरी नही की हैं. 

बता दें कि हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की 18 अक्टूबर को लखनऊ में हत्या कर दी गई थी. कमलेश तिवारी के घर पर अशफाक और मोइनुद्दीन ने उनकी बेरहमी से उनकी हत्या कर दी थी. कमलेश तिवारी की पत्नी किरण तिवारी और परिजन लगातार हत्यारोपियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रहे हैं. 

वहीं, हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राजेश मणि त्रिपाठी ने कहा कि योगी सरकार कमलेश तिवारी हत्याकांड की एनआईए जांच इसलिए नहीं करना चाहती, क्योंकि उससे शासन और प्रशासन की चूक का पता चल जाएगा. तमाम अधिकारियों की कमियां भी बेनकाब ही जाएंगी. राजेश मणि त्रिपाठी ने कहा कि कमलेश तिवारी की हत्या में परोक्ष या अपरोक्ष रूप से शासन, प्रशासन दोनों जिम्मेदार हैं.  उनकी सुरक्षा कम कर दी गई और शासन-प्रशासन ने विजिलेंस रिपोर्ट को भी अनदेखा किया.