close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कानपुर पुलिस की एक अनोखी पहल, टीबी पीड़ित बच्चों को लेगी गोद

कानपुर पुलिस के आला अधिकारियों द्वारा 6 जिलों के सभी SP, सीओ, SO, SHO को निर्देश जारी किए गए हैं वे अपने अपने क्षेत्र में जाकर वहां एक बच्चा जो टीबी से पीड़ित है, उसे गोद लें. 

कानपुर पुलिस की एक अनोखी पहल, टीबी पीड़ित बच्चों को लेगी गोद
फाइल फोटो.

संकल्प दुबे, कानपुर: आम तौर पर पुलिस की आलोचना होना कोई नई बात नहीं है. मित्र पुलिस का दावा करने वाली पुलिस आम जनता के दिलों में जगह नहीं बना पाई और न उन्हें सुरक्षा का भरोसा दे पाई. ऐसे में पुलिस की छवि को सुधारने के लिए कानपुर के IG मोहित अग्रवाल ने एक अनोखा फैसला लिया जिसे जनता और पुलिस की बढ़ी दूरियां दूर हो सकेंगी.

कानपुर पुलिस के आला अधिकारियों द्वारा 6 जिलों के सभी SP, सीओ, SO, SHO को निर्देश जारी किए गए हैं वे अपने अपने क्षेत्र में जाकर वहां एक बच्चा जो टीबी से पीड़ित है, उसे गोद लें. पुलिसकर्मी उन बच्चों के लिए अभिभावक की भूमिक निभाएंगे. वे उनकी देखभाल करेंगे. पुलिसकर्मियों की यह जिम्मेदारी होगी कि उस बच्चे को पौष्टिक आहार मिले. साथ ही हर 15 दिन में वे बच्चे से मिलने भी जाएंगे.

यह सबकुछ फिल्मी कहानी की तरह दिख रहा है, लेकिन यह हकीकत है. IG मोहित अग्रवाल ने साफ-साफ कहा है कि पुलिस को अपनी छवि सुधारने पर काम करने की जरूरत है. लोग पुलिस से डरते हैं और सम्मान की दृष्टि से नहीं देखते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि बेहतर समाज निर्माण के लिए जरूरी है कि आमजन का पुलिस पर विश्वास हो और बेहतर संबंध हों. मोहित अग्रवाल ने ये भी कहा कि पुलिसकर्मी अपनी सैलरी से 1000 रुपये तक का पौष्टिक आहार बच्चों को दे सकते हैं.

जनता के दिलों में जगह बनाने के लिए कानपुर पुलिस की यह अनोखी पहल जनता को पुलिस से कितना जोड़ पाएगी यह तो आने वाला समय ही बताएगा, लेकिन पुलिस के इस कदम से यह कहना भी गलत नहीं होगा कि पुलिस कहीं न कहीं आम जनता के प्रति संवेदनशील है. यही वजह है कि वह संवेदनशील है जिसके लिए यह अनोखी पहल पुलिस प्रशासन की तरफ से की गई है.