ब्लैक फंगस के बाद आई ऑप्टिक न्यूराइटिस नाम की बीमारी, कानपुर में मिला पहला मामला

ऑप्टिक न्यूराइटिस का पहला मामला होने की वजह से डॉक्टर मरीज के इलाज को लेकर कन्फ्यूजन में है.डॉक्टरों ने इस केस को अंतर्राष्ट्रीय जनरल में प्रकाशित कराने के लिए कागजी कार्रवाई पूरी कर ली है.

ब्लैक फंगस के बाद आई ऑप्टिक न्यूराइटिस नाम की बीमारी, कानपुर में मिला पहला मामला
सांकेतिक तस्वीर

कानपुर: ब्लैक फंगस नए-नए रूप दिखा रहा है. कानपुर के हैलट अस्पताल में ब्लैक फंगस से ऑप्टिक न्यूराइटिस का पहला मरीज मिला है. डॉक्टरों का दावा है कि यह देश नहीं बल्कि दुनिया का पहला ऐसा केस है. इस नई बीमारी के सामने आने के बाद डॉक्टर मरीज के इलाज को लेकर परेशान हैं.

ऑप्टिक न्यूराइटिस का पहला मामला होने की वजह से डॉक्टर मरीज के इलाज को लेकर कन्फ्यूजन में है.डॉक्टरों ने इस केस को अंतर्राष्ट्रीय जनरल में प्रकाशित कराने के लिए कागजी कार्रवाई पूरी कर ली है.

शोध हुआ शुरू
 हैलट अस्पताल में 20 दिन पहले 37 साल के आशीष को एडमिट किया गया था. जिसमें ऑप्टिकल न्यूराइटिस पाया गया है. फिलहाल उसकी आंखों की रोशनी प्रभावित हुई है. डॉक्टरों का दावा है कि यह ऑप्टिकल न्यूराइटिस का पहला मरीज है. इस पर विभाग के डॉक्टर की टीम ने शोध करना शुरू कर दिया है. 

नस के जरिए दिमाग तक पहुंचता है 
आशीष के केस में ब्लैक फंगस के एक नए प्रभाव को उजागर किया है. जिसमें फंगल संक्रमण से नसों में सूजन आ जाती है.हैलट के नेत्र विभागाध्यक्ष डॉ परवेज का कहना है कि इस केस से यह भी पता चला है कि ब्लैक फंगस ब्लड से ही नहीं नस के जरिए भी दिमाग तक पहुंच सकता है.

WATCH LIVE TV