मुस्लिम डॉक्टर ने किया अंगदान तो जारी हुआ फतवा, कहा- मुसलमानों को कर रहा है बदनाम

इंसान का जिस्म अल्लाह की अमानत है. उसका बंदा अपने किसी भी अंग का मालिक नहीं होता. वह सिर्फ उसका ख्याल रख सकता है.

मुस्लिम डॉक्टर ने किया अंगदान तो जारी हुआ फतवा, कहा- मुसलमानों को कर रहा है बदनाम
Play

कानपुर : एक मुस्लिम डॉक्टरों को इंसानियत का पैगाम देना उसी के लिए परेशानी का सबब बन गया है. उसके इस कदम से ना केवल मुस्लिम समाज उससे खफा हो गया है, बल्कि इस्लामिक धर्मगुरुओं ने उसके खिलाफ फतवा भी जारी किया गया है. उसकी नेक-नियत के लिए डॉक्टर को धमकियां भी मिल रही हैं. डॉक्टर ने इस बारे में पुलिस में भी शिकायत दर्ज कराई है. उसकी खता ये है कि उसने अंगदान की घोषणा की है. उधर, फतवा जारी करने वाले इमाम ने कहा कि अंगदान करना उनके धर्म के खिलाफ है.

समाज के लिए किया अंगदान
कानपुर के रहने वाले अरशद मंसूरी ने समाज के हित के लिए अपना सामाजिक दायित्व निभाते हुए अपना अंगदान करने की घोषणा की. इससे पहले उन्होंने अपनी आंखें दान करने की बात कही थी. अरशद मंसूरी एक निजी मेडिकल कॉलेज में जनरल मैनेजर हैं. मेडिकल के छात्रों को शोध के लिए उन्होंने अपना शरीर दान करने की घोषणा की. लेकिन अरशद के इन फैसलों का मुस्लिम जगत ने विरोध किया है.    

मिल रही हैं धमकियां
कानपुर की एक इस्लामी तनजीम ने फतवा जारी करके अंगदान को नाजायज और गुनाह ठहराया है. अरशद ने बताया कि फतवे में समाज को उनका बहिष्कार करने की बात कही गई है. उन्होंने बताया कि मानवता की सेवा करना ही सबसे बड़ा धर्म है. अरशद ने बताया कि इस फतवे के बाद उन्हें फोन पर धमकियां मिल रही हैं. इस बारे में उन्होंने पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है. 

क्या तर्क दिया इमाम ने
यहां के जामियतुल अरबिया अहसनुल मदारिस के मुफ्ती मोहम्मद हुसैन कादरी बरकाती ने फतवे में कहा है कि इंसान का जिस्म अल्लाह की अमानत है. उसका बंदा अपने किसी भी अंग का मालिक नहीं होता. वह सिर्फ उसका ख्याल रख सकता है.

फतवे में कहा गया है कि शरीयत के मुताबिक किसी इंसान को अपने शरीर के किसी भी अंग को दान करने का हक नहीं होता, लिहाजा शख्स के मरने के बाद अपने अंगों का दान करने की वसीयत हरगिज जायज नहीं है. ऐसा करने वाला शख्स गुनहगार होगा. मुफ्ती ने अपने फतवे के समर्थन में पूर्व में जारी ऐसे कई फतवों का हवाला दिया है. मुफ्ती मोहम्मद हुसैन कादरी बरकाती ने कहा कि अल्लाह के मुताबिक, इज्जत के साथ मुसलमान के मृत शरीर को सुपुर्दे-ए-ख़ाक करना चाहिए.