close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

AMU के कश्मीरी छात्रों ने CM योगी से मिलने से मना किया, कहा - 'PM मोदी, गृहमंत्री बुलाएं तो रखेंगे अपनी बात'

कश्मीरी छात्रों का कहना है कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फायदे और नुकसान वो पहले से जानते हैं. इस बारे में किसी से समझने की जरूरत नहीं है. 

AMU के कश्मीरी छात्रों ने CM योगी से मिलने से मना किया, कहा - 'PM मोदी, गृहमंत्री बुलाएं तो रखेंगे अपनी बात'
फाइल फोटो

लखनऊ: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (Aligarh Muslim University) में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों ने 28 सितंबर को उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ (Yogi Adityanath) के साथ मुलाकात करने के निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया है. छात्रों के अनुसार उन्हें मिला निमंत्रण 'राजनीति से प्रेरित' और 'अस्वीकार्य' है. दरअसल, उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जम्मू एवं कश्मीर में अनुच्छेद 370 (Article 370) को रद्द करने का फायदा बताने के लिए कश्मीरी छात्रों को आमंत्रित किया था.

कश्मीरी छात्रों का कहना है कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के फायदे और नुकसान वो पहले से जानते हैं. इस बारे में किसी से समझने की जरूरत नहीं है. अनुच्छेद 370 पर बात करनी है तो PM मोदी और गृहमंत्री अमित शाह बुलाएं, हम उनके सामने अपनी बात रखेंगे.  

विश्वविद्यालय के कश्मीरी छात्रों का कहना है कि सरकार का यह कदम पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित है. उन्होंने कहा कि वे (सीएम योगी) पूरी दुनिया को यह दिखाना चाहते हैं कि वहां सब कुछ सामान्य है और सभी उनके विवादास्पद निर्णय से खुश हैं, जबकि यह पूरी तरह से गलत है. उन्होंने कहा कि एएमयू में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्र राजनेताओं के हाथों की कठपुतली नहीं बनने वाले हैं, ताकि वे यह दिखा सकें कि कश्मीर के निवासियों के साथ उनका संबंध कितना अच्छा है.

लाइव टीवी देखें

एएमयू के एक कश्मीरी रिसर्च स्कॉलर ने कहा कि हमने एक साथ इस निमंत्रण को अस्वीकार करने का फैसला लिया है. ऐसे में अगर विश्वविद्यालय का कोई भी व्यक्ति मुख्यमंत्री से मिलने जाता है, तो यह उसका अपना व्यक्तिगत फैसला होगा और उसके फैसले को एएमयू में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों का फैसला न माना जाए.

(इनपुट- आईएएनएस से भी)