close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केशव प्रसाद मौर्य बोले, 'सरकार, समाज और पार्टी कमलेश तिवारी के परिवार के साथ खड़ी है'

यूपी में बढ़ते अपराधों के सवाल पर डिप्टी सीएम ने कहा, 'विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, भय मुक्त माहौल देने में सपष्टता है. सबसे ज्यादा आबादी वाला प्रदेश है, फिर भी हम अपराध को कंट्रोल चाहते हैं, काम कर रहे हैं, कठोरता से काम कर रहे हैं.'

केशव प्रसाद मौर्य बोले, 'सरकार, समाज और पार्टी कमलेश तिवारी के परिवार के साथ खड़ी है'
(फोटो साभार - ANI)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) के मुख्य आरोपियों के पकड़े जाने पर कहा है कि यूपी और गुजरात पुलिस के संयुक्त प्रयास से ही यह संभव हो पाया है. उन्होंने कहा कि हम पीड़ित परिवार के साथ खड़े हैं और चाहते हैं कि अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले. केशव मौर्य ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'यूपी और गुजरात के संयुक्त प्रयास के परिणाम है कि कमलेश तिवारी हत्याकांड का आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपियों ने अपना अपराध को कबूला है अब वह कानून के दायरे में आ चुके हैं. हम परिवार की पीड़ा से सहमत हैं. पूरे परिवार के साथ सरकार समाज और पार्टी खड़ी है.'

यूपी में बढ़ते अपराधों के सवाल पर डिप्टी सीएम ने कहा, 'विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है, भय मुक्त माहौल देने में स्पष्टता है. सबसे ज्यादा आबादी वाला प्रदेश है, फिर भी हम अपराध को कंट्रोल चाहते हैं, काम कर रहे हैं, कठोरता से काम कर रहे हैं.'

प्रियंका गांधी वाड्रा पर हमला करते हुए केशव मौर्य ने कहा,'वह ट्वीटर वाली नेता हैं, अपने भाई को हराकर गई हैं, कोई महत्व नहीं है कि वो क्या कह रही हैं, महत्व है कि कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए हर कदम उठा रहे हैं. हरियाणा और महाराष्ट्र में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजों को लेकर केशव मौर्य ने कहा, 'हमें पूरा विश्वास है कि बीजेपी की सरकार आनेवाली है, यूपी में भी बीजेपी के पक्ष में शानदार परिणाम आएंगे'

यह भी पढ़ेंः कमलेश तिवारी: 1 आरोपी करता है डिलिवरी ब्‍वॉय का काम, दूसरा है- मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव

बताया जा रहा है कि हत्यारोपी अशफाक और मोईनुद्दीन का प्लान कमलेश तिवारी को 20 अक्टूबर को किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में मारने का था. सूत्रों की मानें तो, 20 अक्टूबर को हिंदू समाज पार्टी का एक सार्वजनिक कार्यक्रम होना था. इसी कार्यक्रम में कमलेश तिवारी की हत्या करने का प्लान बनाया गया था. सूत्रों का कहना है कि आखिरी समय मे हिंदू समाज पार्टी के सार्वजनिक कार्यक्रम के निरस्त होने के चलते प्लानिंग में बदलाव किया गया था.

कार्यक्रम रद्द होने पर की दो दिन पहले हत्या
सूत्रों की मानें तो, कार्यक्रम में बदलाव के बाद कमलेश तिवारी हत्याकांड को दो दिन पहले 18 अक्टूबर को अंजाम दिया गया. बताया जा रहा है कि हत्यारोपियों ने कमलेश तिवारी को सार्वजनिक कार्यक्रम में मारने की प्लानिंग इसलिए की थी कि समाज में एक बड़ा मैसेज जाए. बता दें कि अशफाक एक कम्पनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव का काम करता था. वहीं, मोइनुद्दीन डिलीवरी ब्वॉय था. अभी तक की विवेचना में राशिद पठान द्वारा फंडिंग की बात सामने आई है. हालांकि, अभी पूछताछ जारी है.

यह भी पढ़ेंः Zee Jaankari: हिंदू आज से नहीं हजारों वर्षों से सहनशीलता का परिचय दे रहे हैं

पहले मारी गोली फिर चाकू से किए ताबड़तोड़ वार
वहीं, कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Mudercase) के मुख्य आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट (postmortem report) से खुलासा किया है कि मृतक को पहले गोली मारी गई और उसके बाद धारदार हथियार से सीने पर 7 बार वार किए गए. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि आरोपियों ने कमलेश की गर्दन पर चाकू के वार से किए हैं. आरोपियों ने धारदार हथियार से करीब 15 वार किए हैं. 

गर्दन रेतने के भी मिले निशान
पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, गर्दन पर 12 सेंटीमीटर लंबा और 3 सेंटीमीटर गहरा घाव हुआ है. रिपोर्ट में कमलेश की मौत का कारण गला रेतना भी बना है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उनके सीने के बाईं तरफ चाकू के सात वार का जिक्र किया है. इसके साथ ही तिवारी के शव के परीक्षण के दौरान दो जगह चाकू से रेते जाने के निशान मिलने हैं. इनमें से एक निशान उनकी गर्दन को रेतने का है.