नोटबंदी के बाद बैंक की लाइन में जन्मे बच्चे ‘खजांची’ के गांव को गोद लेंगे अखिलेश

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव नोटबंदी के बाद बैंक की लाइन में जन्मे बच्चे ‘खजांची’ के गांव को गोद लेंगे. सपा के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने सोमवार को बताया कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश पिछले साल देश में नोटबंदी के दौरान कानपुर देहात जिले के झींझक में बैंक की लाइन में खड़ी महिला को शाखा परिसर में जन्मे बच्चे ‘खजांची’ के गांव अनन्तपुरवा को गोद लेने का फैसला किया है.

नोटबंदी के बाद बैंक की लाइन में जन्मे बच्चे ‘खजांची’ के गांव को गोद लेंगे अखिलेश
खजांची के साथ अखिलेश (साभार: @yadavakhilesh)

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव नोटबंदी के बाद बैंक की लाइन में जन्मे बच्चे ‘खजांची’ के गांव को गोद लेंगे. सपा के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने सोमवार को बताया कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश पिछले साल देश में नोटबंदी के दौरान कानपुर देहात जिले के झींझक में बैंक की लाइन में खड़ी महिला को शाखा परिसर में जन्मे बच्चे ‘खजांची’ के गांव अनन्तपुरवा को गोद लेने का फैसला किया है.

उन्होंने बताया कि अखिलेश अनन्तपुरवा को ‘समाजवादी विकास गांव’ बनायेंगे. इस गांव का विकास कर उसे पूर्ण सुविधा सम्पन्न बनाया जाएगा. चौधरी ने बताया कि रविवार को सैफई हवाई पट्टी पर अखिलेश ने खजांची को उसकी पहली सालगिरह के मौके पर गोद में लिया और उसका जन्म दिन मनाकर आशीर्वाद दिया. इस दौरान उसका परिवार भी मौजूद था.

उन्होंने बताया कि पिछले साल दो दिसम्बर को डेरापुर तहसील के झींझक स्थित पंजाब नेशनल बैंक में नोटबंदी के दौरान लाइन में लगी महिला को वहीं प्रसव पीड़ा हुई थी और परिसर में ही उसने बच्चे को जन्म दिया था. उसका नाम खजांची रखा गया था. तत्कालीन सपा सरकार ने उसके परिवार को लोहिया आवास भी दिया था. मालूम हो कि अखिलेश यादव पिछले विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान अपने भाषणों में अक्सर नोटबंदी पर तंज करते हुए खजांची का जिक्र करते थे.

(इनपुट - भाषा)