एक दिन की सीएम: समीक्षा के बाद सृष्टि गोस्वामी ने दिए विभागों को निर्देश

 विभागों ने सृष्टि के सामने अपनी-अपनी प्रेजेंटेशन दी

एक दिन की सीएम: समीक्षा के बाद सृष्टि गोस्वामी ने दिए विभागों को निर्देश

देहरादून:  'एक दिन का सीएम'- ये वाक्य हमेशा से अनिल कपूर की फ़िल्म नायक की याद दिलाती है. 90 के दशक के बच्चों का सपना भी होता था कि काश एक दिन का सीएम बनने का मौका मिले. सभी बच्चों का नहीं, लेकिन उत्तराखंड की रहने वाली सृष्टि गोस्वामी का ये सपना पूरा हो गया. उन्होंने राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 24 जनवरी को एक दिन के लिए उत्तराखंड की मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला. 

विकास कार्यों की लिया जयाजा 
दरअसल, 24 जनवरी को बाल विधानसभा का आयोजन किया गया. सृष्टि को इसके लिए विधायक दल का नेता चुना गया. उत्तराखंड बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने बताया कि एक दिन की मुख्यमंत्री सृष्टि गोस्वामी ने कई विभागों की समीक्षा की. विभागों ने सृष्टि के सामने अपनी-अपनी प्रेजेंटेशन दी. उन्होंने निर्देश दिए हैं सब विभागों की समीक्षा की रिपोर्ट मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को सौंपी जाएगी, जिससे सरकार मामले में कार्रवाई कर सकें.   

वहीं, कुमकुम ने गृहमंत्री का कार्यभार संभाला. गृहमंत्री बनने पर कुमकुम का कहना है कि इससे उनका मनोबल बढ़ा है और उन्हें काफी कुछ सीखने का मौका मिला है

परिवार में खुशी की लहर
आपको बता दें कि सृष्टि हरिद्वार जनपद के दौलतपुर गांव की रहने वाली हैं. सृष्टि के सीएम बनने पर परिजनों में भी काफी खुशी देखने को मिल रही है. सृष्टि के माता-पिता का कहना है कि हमें काफी गर्व हो रहा है. हर बेटी एक मुकाम हासिल कर सकती है. बस उनका साथ देने की जरूरत है. क्योंकि बेटी किसी से कम नहीं होती. उन्होंने कहा कि सभी लोगों को इस बात से प्रेरणा लेनी चाहिए. जब एक बेटी इस मुकाम को हासिल कर सकती है, तो और कोई क्यों नहीं. उन्होंने कहा कि हम मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने हमारी बेटी को इस लायक समझा.

WATCH LIVE TV