close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उत्तराखंड के इन इलाकों में जमीन खरीदना होगा महंगा, जानिए क्या है वजह

उत्तराखंड में जिन हिस्सों में जमीनों की मांग ज्यादा है या जहां खरीद फरोख्त में तेजी है वहां राज्य सरकार सर्कल रेट बढ़ाने जा रही है. 

उत्तराखंड के इन इलाकों में जमीन खरीदना होगा महंगा, जानिए क्या है वजह
फाइल फोटो

देहरादून: उत्तराखंड में जमीन खरीदना महंगा होने जा रहा है. उत्तराखंड में जिन हिस्सों में जमीनों की मांग ज्यादा है या जहां खरीद फरोख्त में तेजी है वहां राज्य सरकार सर्कल रेट  बढ़ाने जा रही है. जिन इलाकों में तेजी से विकास हो रहा है वहां सर्किल रेट 25 से 35  प्रतिशत तक बढाने की तैयारी पूरी हो चुकी है.  देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश , रूड़की , हल्द्वानी, रुद्रपुर , काशीपुर सहित तमाम बड़े शहरों के आसपास के गांवों में जमीन की खरीद फरोख्त बढ़ी है. सरकार ऐसे ही इलाके में सर्किल बढ़ने वाले हैं. इससे पहले सरकार ने 2017-18 में शहर का रूप ले रहे गांवों को नगर निगम, नगर पालिका और नगर पंचायत में शामिल करवाया था. उत्तराखंड के बनने के बाद शहरीकरण के कारण कई नए इलाके विकसित हुए.

अब सरकार इन विकसित हो रहे इलाकों के सर्किल रेट बढाकर अपनी भी आर्थिक स्तिथि बेहतर करना चाहती है. उत्तराखंड के कृषि मंत्री सुबोध उनियाल कहते हैं कि " सर्कल रेट बढ़ने से राज्य की आमदनी बढ़ेगी और खेती योग्य भूमि की बिक्री पर भी रोक लग सकेगी. " उनियाल आगे कहते हैं कि " जो भी किसान है उसे सर्कल रेट बढ़ने का फायदा होगा. किसान की जमीन के दाम बढ़ जाएंगे.

इससे किसान की हैसियत भी बढ़ जाएगी और जब वो लोन लेने जाएगा तो उसे ज्यादा कर्ज मिल सकेगा." दूसरी ओर उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय कहते हैं " इस फैसले से गरीब और कमजोर वर्ग को नुकसान होगा. राज्य सरकार अगर सर्किल रेट बढ़ाती है तो छोटी जमीन खरीदकर घर बनाने वाले लोगों को इसका नुकसान होने जा रहा है." उत्तराखंड में कई जगह सर्कल रेट में काफी असमानता है.

सर्कल रेट और बाज़ार भाव में भी कई जगह बड़ी असमानता है. राज्य सरकार की कोशिश इसको एकरूप करने की है. राज्य के सभी जिलाधिकारियों से नए सर्कल रेट को लेकर प्रस्ताव भी शासन को मिल चुके हैं. जल्दी ही केबिनेट में इन प्रस्तावों को ले जाया जाएगा. सम्भव है कि केबिनेट बिना देरी के इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दे. आम आदमी को सर्कल रेट की जानकरी भी अब आसानी से उपलब्ध हो पाएगी.

स्टाम्प और रजिस्ट्रेशन विभाग की वेबसाइट पर सभी क्षेत्रों के सर्किल रेट की जानकारी उपलब्ध होगी. जानकारों का मानना है कि उत्तराखंड में रियल एस्टेट पिछले 2 साल से काफी खराब हालत में है. अगर सरकार जमीनों के सर्कल रेट बढ़ाएगी तो इसकी हालत और खराब होगी. अब देखना है कि सरकार कब इन बढ़े हुए सर्कल रेट को लागू कर पाती है और कितना फायदा राजस्व को इससे होता है.