उन्नाव: दुष्कर्म पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया, यूपी सरकार के दो मंत्री हुए शामिल

उन्नाव पीड़िता के परिवार ने जिला प्रशासन और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से मिले आश्वासन के बाद पीड़िता का अंतिम संस्कार किया.

उन्नाव: दुष्कर्म पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया, यूपी सरकार के दो मंत्री हुए शामिल
उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता (Unnao Rape Victim) का अंतिम संस्कार परिवार द्वारा किया गया.

उन्नाव: उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता (Unnao Rape Victim) का अंतिम संस्कार परिवार द्वारा आज उनके गांव में कर दिया गया. कड़ी सुरक्षा के बीच शव को गांव के बाहर एक खेत में दफना दिया गया है. इस दौरान यूपी सरकार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और कमल रानी वरुण भी मौजूद रहे. पीड़ित परिवार को हर कदम पर सरकार के साथ होने का आश्वासन भी दिया.

बता दें कि उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के परिवार ने जिला प्रशासन और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से मिले आश्वासन के बाद पीड़िता का अंतिम संस्कार किया. पीड़ित परिवार की ओर से नौकरी, परिवार की सुरक्षा और हथियार का लाइसेंस देने की मांग को मान लिया गया है. साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दो घर भी पीड़ित परिवार को दिए जाएंगे. वहीं, आर्थिक मदद के तौर पर शनिवार रात ही पीड़िता के परिवार को 25 लाख का चेक दिया जा चुका है.

बता दें कि उन्नाव पीड़िता के पार्थिव शरीर को शनिवार रात ही उन्नाव लाया गया था. जिसके बाद से गांव में भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात कर दिया गया थे. वहीं, आज भी भारी सुरक्षा के बीच शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया. अंतिम संस्कार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और कमल रानी वरुण के अलावा कमिश्नर मेश्राम तथा अन्य आला अधिकारी भी शामिल हुए. सपा के नेता भी गांव में ही मौजूद रहे, जो अंतिम संस्कार के बाद उन्नाव जिला मुख्यालय पर आयोजित शोक सभा में शामिल होंगे.

बता दें कि उन्नाव में आग के हवाले की गई दुष्कर्म पीड़िता की शुक्रवार रात दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई थी. करीब 90 फीसदी झुलस चुकी पीड़िता को बीते गुरुवार को एयरबस से दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल (Safdarjung Hospital) लाया गया था. अस्पताल की ओर से बताया गया कि शुक्रवार (6 दिसंबर) को रात 11:40 बजे पीड़िता ने आखिरी सांस ली.

ज्ञात हो कि उन्नाव के बिहार थानाक्षेत्र के अंतर्गत आने वाले एक गांव की युवती के साथ दुष्कर्म हुआ था. इसके बाद दो नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था. युवती इसी मामले की पैरवी के लिए गुरुवार को रायबरेली जा रही थी. गुरुवार तड़के करीब चार बजे पीड़िता रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा स्टेशन के लिए निकली थी, तभी गांव के बाहर खेत में दोनों आरोपी व उनके तीन साथियों ने उसके ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा दी थी.