चीन और नेपाल से भारत के रिश्तों में कड़वाहट से इतर, CM योगी ने ये काम कर पेश की मिसाल

मुख्यमंत्री ने कोटा के बच्चों की तरह ही नेपाली छात्रों के लिए तत्काल बस की व्यवस्था करवाई और सभी को सकुशल और सुरक्षित तरीके से भारत-नेपाल सीमा पर पहुंचाया, जहां से सभी छात्र अपने घर नेपाल पहुंचे.

चीन और नेपाल से भारत के रिश्तों में कड़वाहट से इतर, CM योगी ने ये काम कर पेश की मिसाल
फाइल फोटो.

लखनऊ: चीन और नेपाल से भारत के रिश्तों में आ रही कड़वाहट के इतर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक नई मिसाल पेश की है. जिस वक्त सीमा विवाद को लेकर नेपाल अपने रिश्ते तल्ख कर रहा है, उस वक्त मुख्यमंत्री योगी ने नेपाली छात्रों को सकुशल और सुरक्षित नेपाल पहुंचाकर पूरी दुनिया में भारत की एक उदारवादी छवि पेश की है.

दरअसल, उत्तराखंड से 22 नेपाली छात्र उत्तर प्रदेश आए. लेकिन, लॉकडाउन के कारण नेपाल जाने के लिए कोई साधन उपलब्ध न होने की वजह से यहीं फंस गए. जिसके बाद इन छात्रों को नेपाल उनके घर पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के अधिकारियों को निर्देश दिया. इसके बाद इन छात्रों को परिवहन निगम की बसों द्वारा भारत- नेपाल बॉर्डर तक निशुल्क पहुंचाया गया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यप्रणाली देखकर नेपाल के छात्र भी कायल हो गए हैं.

गौरतलब है कि इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर राजस्थान के कोटा में फंसे 12,000 से ज्यादा छात्रों को सकुशल और सुरक्षित तरीके से उनके घर निशुल्क पहुंचाया गया. जिससे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की इस मिसाल की चर्चा पूरे देश में हुई.