close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उत्तराखंड में आफत की बारिश, गर्भवती महिला को 11 KM पैदल चल पहुंचाया अस्पताल

बारिश के कारण कई स्थानों पर पहाड़ियों से भूस्खलन हो रहा है, जिसके चलते राष्ट्रीय राजमार्गों सहित कई मार्ग अवरूद्ध हैं.

उत्तराखंड में आफत की बारिश, गर्भवती महिला को 11 KM पैदल चल पहुंचाया अस्पताल
फोटो सौजन्य: ANI

पिथौराखंड: मानसून का मौसम जहां लोगों के लिए राहत लेकर आया है, वहीं भीषण बारिश के चलते सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. बारिश के कारण कई स्थानों पर पहाड़ियों से भूस्खलन हो रहा है, जिसके चलते राष्ट्रीय राजमार्गों सहित कई मार्ग अवरूद्ध हैं. इन्हें खोलने का प्रयास किया जा रहा है. वहीं, उत्तराखंड में लगातार जारी बारिश के चलते एक गर्भवती महिला को परिजनों ने 11 किलोमीटर दूर स्थित अस्पताल पैदल चलकर पहुंचाया. बताया जा रहा है कि धारचूला में भारी और लगातार बारिश के चलते सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि सड़क संपर्क टूट जाने के कारण प्रसव के समय उनके पास कोई विकल्प था. 

 

वर्षाजनित घटनाओं में एक की मौत
परिजनों का कहना है कि घर पर प्रसव कराना जोखिम भरा हो सकता था. खतरे के देखते हुए ही सबने पहाड़ के रास्ते गर्भवती महिला को 11 घंटे लगातार चढ़ाई कर अस्पताल पहुंचाया. परिजनों का कहना है कि इन दुर्गम इलाकों में आए दिन ऐसी घटनाएं होती रहती हैं. वहीं, राज्य में वर्षाजनित घटनाओं में एक की मौत हो गई और एक घायल हो गया. उत्तराखंड में लगातार जारी बारिश के चलते हुई अलग-अलग घटनाओं में एक बालिका की मौत हो गई तथा एक महिला घायल हो गई. 

मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट
मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में खासतौर पर आठ जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है. राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार, हरिद्वार जिले के रूड़की क्षेत्र के मंगलौर में दोपहर बाद करीब ढाई बजे एक चार वर्षीय बालिका की घर के बाहर खेलते समय भारी बारिश से उफनाए सिंचाई विभाग के नाले में गिरने से मौत हो गई. मृतक बालिका की पहचान जीनत के रूप में हुई है. वहीं एक अन्य घटना में रूड़की में एक मकान का छज्जा गिरने से एक महिला घायल हो गई.

आसमानी बिजली गिरने से दो मकान जमींदोज
एक अन्य घटना में हरिद्वार जिले के ही रजबपुर गांव में बारिश के दौरान दो मकानों पर आसमानी बिजली गिर गई, जिससे वे जमींदोज हो गए. हालांकि, इस घटना में किसी जनहानि की सूचना नहीं है. लगातार बारिश के कारण देहरादून जिले के डोइवाला क्षेत्र में सुसवा नदी का जलस्तर बढ़ गया. उधमसिंह नगर जिले के खटीमा क्षेत्र में खमरिया और प्रतापपुर गांवों में सुवह से लगातार जारी बारिश के कारण जलभराव की स्थिति हो गई. 

वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध
राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र द्वारा जिलाधिकारियों को दिए निर्देशों में कहा गया है कि भारी बारिश के दौरान प्रदेश में कुछ स्थानों पर वज्रपात और बादल फटने जैसी घटनाओं से आम जनजीवन प्रभावित हो सकता है इसलिए इस दौरान सतर्कता बरती जाए और अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए तैयारी पूरी रखी जाए. निर्देशों में यह भी कहा गया है कि पर्वतीय क्षेत्रों में रात आठ बजे से लेकर सुबह पांच बजे तक बीमार व्यक्तियों को ले जाने वाले वाहनों या एम्बुलेंसों, आपातकालीन सेवा वाहनों, सैन्य तथा अर्धसैन्य वाहनों को छोडकर अन्य सभी प्रकार के वाहनों का आवागमन प्रतिबंधित कर दिया जाए.

(इनपुट भाषा से)