लखनऊ मेट्रो उतरी पटरी पर अखिलेश-मुलायम ने दिखायी हरी झंडी

उत्तर प्रदेश सरकार की बहुप्रचारित लखनऊ मेट्रो के ‘ट्रायल रन’ को आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके पिता सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने हरी झंडी दिखायी। मुख्य कार्यक्रम का आयोजन ट्रांसपोर्ट नगर डिपो पर किया गया था। ट्रायल रन साढे आठ किलोमीटर की दूरी तक ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग के बीच हुआ।

लखनऊ मेट्रो उतरी पटरी पर अखिलेश-मुलायम ने दिखायी हरी झंडी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार की बहुप्रचारित लखनऊ मेट्रो के ‘ट्रायल रन’ को आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके पिता सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने हरी झंडी दिखायी। मुख्य कार्यक्रम का आयोजन ट्रांसपोर्ट नगर डिपो पर किया गया था। ट्रायल रन साढे आठ किलोमीटर की दूरी तक ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग के बीच हुआ।

अखिलेश ने इस मौके पर कहा कि इस परियोजना को समय से पूरा करना चुनौती थी। समय से पहले पूरी हुई इस परियोजना ने देश के समक्ष मिसाल कायम की है।

उन्होंने कहा, ‘मेट्रो हमारे चुनाव घोषणापत्र में नहीं थी लेकिन हमने परियोजना शुरू की। गाजियाबाद तथा नोएडा में भी मेट्रो का काम चल रहा है। कानपुर में मेट्रो जाएगी और मौका मिला तो वाराणसी भी मेट्रो ले जाएंगे।'

अखिलेश ने कहा कि हम दोषारोपण के खेल को नहीं मानते। हम विकास चाहते हैं और इसके लिए उठाये गये हर कदम का समर्थन करते हैं। कार्यक्रम में मौजूद मुलायम ने मेट्रो की शुरूआत पर खुशी का इजहार करते हुए कहा कि परियोजना समय से पूरी हो गयी, उन्हें इसकी खुशी है।

मुलायम ने मेट्रो परियोजना से जुडे कर्मचारियों और अधिकारियों की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘जब मुझसे परियोजना का शिलान्यास करने के लिए कहा गया तो मैं जानना चाहता था कि समय कितना लगेगा। जब बताया गया कि चार साल लग जाएंगे तो मैंने इंकार कर दिया था। फिर कहा गया कि तीन साल में काम पूरा हो जाएगा लेकिन बाद में मुझे बताया गया कि दो साल में काम हो जाएगा, जिस पर मैं सहमत हो गया।’

एक दिसंबर को ऐतिहासिक दिन बताते हुए मुलायम ने कहा कि यदि वाराणसी में भी मेट्रो चले तो उन्हें खुशी होगी। उन्होंने जनता से अपील की कि वह सपा को वोट दे ताकि वह राज्य में फिर अगली सरकार बना सके।

मुलायम ने कहा, ‘मौजूदा सपा सरकार ने ऐतिहासिक कार्य किये हैं और देश में इसकी मिसाल कायम हुई है। उत्तर प्रदेश में जो कार्य हुए, हर कहीं उनकी तारीफ हो रही है।’

पार्टी कार्यकर्ताओं से सपा सरकार द्वारा किये गये कार्यों का प्रचार जनता के बीच करने की अपील करते हुए उन्होंने कहा, ‘हमने अच्छे कार्य किये लेकिन हम चर्चा नहीं करते।’ कार्यक्रम में प्रदेश सपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव भी मौजूद थे।

मेट्रो का उत्तर-दक्षिण कॉरिडोर 23 किलोमीटर लंबा है और इस पर 21 स्टेशन होंगे। आठ स्टेशन जमीन से उपर होंगे। मेट्रो की अनुमानित लागत 6800 करोड रूपये है। ट्रांसपोर्ट नगर से चारबाग के बीच के खंड को आम जनता के लिए अगले वर्ष 26 मार्च को खोला जाएगा। तीन महीने तक मेट्रो का ‘ट्रायल’ चलेगा।

कोंकण रेलवे और दिल्ली मेट्रो जैसी देश की कई बडी परियोजनाओं को सफलतापूर्वक पूरा करने वाले मेट्रोमैन ई श्रीधरन लखनउ मेट्रो रेल कारपोरेशन के प्रमुख सलाहकार हैं।