मिशन 2022: बीएल संतोष ने गिनाईं बंगाल चुनाव की गलतियां, बोले यूपी में इन्हें कतई मत दोहराना

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने संगठन के पदाधिकारियों से पूछा कि भाजपा के संकल्प पत्र की घोषणाओं का क्या हुआ, कितनी घोषणाओं पर अमल हुआ? वहीं संघ पदाधिकारियों के साथ बैठक कर भावी रणनीति की रूपरेखा खींची. 

मिशन 2022: बीएल संतोष ने गिनाईं बंगाल चुनाव की गलतियां, बोले यूपी में इन्हें कतई मत दोहराना
भाजपा के संगठन महामंत्री बीएल संतोष.

पवन सेंगर/लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व स्टेट यूनिट की तैयारियों का जायजा लेने के लिए भाजपा केंद्रीय नेतृत्व ने बीएल संतोष और राधामोहन सिंह को सक्रिय कर दिया है. भाजपा के संगठन महामंत्री बीएल संतोष और यूपी प्रभारी राधामोहन सिंह एक महीने के अंदर दूसरी बार लखनऊ के तीन दिवसीय दौरे पर हैं. 

मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार केशव प्रसाद मौर्या के घर पहुंचे योगी आदित्यनाथ

इन दोनों ने मंगलवार सुबह यूपी भाजपा के पदाधिकारियों, मोर्चा अध्यक्षों, क्षेत्रीय अध्यक्षों के साथ बैठक की. बीएल संतोष ने इन सबसे बंगाल चुनाव के नतीजों से सबक लेने की बात कही. उन्होंने कहा कि बंगाल चुनाव में जो गलतियां हुईं उन्हें यूपी उत्तर प्रदेश चुनाव में न दोहराया जाए. 

नशे की लत ने इंजीनियर को बनाया ऑटोलिफ्टर, जूतों ने खोल दिया राज, चोरी की 26 बाइकें बरामद
 
पदाधिकारियों से कहा गया कि हर हाल में 2022 का उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जीतना है. वोटर्स कैसे घर से निकलेगा, बूथ मैनेजमेंट कैसा होगा इसको लेकर बीएल संतोष ने निर्देश दिए. बंगाल चुनाव के नतीजे यूपी में असर न डालें इसको लेकर तैयारी करने के भी निर्देश दिए गए. 

Tom Alter के हाथ में कुछ हो न हो, हमेशा रहती थी किताब, इसी से जुड़ी है उनकी आखिरी शॉर्ट फिल्म की कहानी

इससे पहले दौरे के पहले दिन यानी सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने प्रदेश नेतृत्व व सरकार के कामों की समीक्षा की. संगठन के पदाधिकारियों से पूछा कि भाजपा के संकल्प पत्र की घोषणाओं का क्या हुआ, कितनी घोषणाओं पर अमल हुआ? वहीं संघ पदाधिकारियों के साथ बैठक कर भावी रणनीति की रूपरेखा खींची. 

बीएल संतोष ने बैठक में पदाधिकारियों को बंगाल में बीजेपी की गलतियां बताईं

1. वोटर घरों से नहीं निकले, वोटरों को भाजपा एजेंट पोलिंग बूथ तक पहुंचाने में नाकाम रहे.

2. घर-घर वोटिंग पर्ची नहीं पहुंचा पाए, जिससे बीजेपी का मतदाता केंद्र तक गया ही नहीं.

3. बीजेपी की ताकत बूथ मैनेजमेंट है, लेकिन बंगाल में बूथ मैनेजमेंट बेहद खराब रहा. वहां हम मौजूद तो थे, लेकिन बूथ पर नहीं थे.

4. यूपी में हमें बूथ को लेकर काम करना है. ''मेरा बूथ सबसे मजबूत" पर काम करना है.

5. मुसलमानों के अलावा हिंदुओं का भी सारा वोट बंगाल चुनाव में बीजेपी को नहीं मिला था. इसको लेकर भी बैठक में कहा गया है.

6. यूपी के विपक्षी दलों की नीतियों पर बयानों में निजी हमले करने से बचना होगा. बंगाल में ममता के ऊपर निजी हमले बहुत हुए थे जिसका फायदा उनको मिला था.

7. प्रचार के दौरान अपने पूरे भाषण में सिर्फ एक या दो नेताओं पर अपना फोकस नहीं रखना होगा.

8. विरोधी दलों के मजबूत स्थानीय नेताओं को कम नहीं आंकना है.

9. अति उत्साहित नहीं होना है कि हम तो आराम से यूपी में जीत रहे हैं. संयमित रहकर पार्टी के कार्यक्रमों को मजबूती से चलाना है.

WATCH LIVE TV