बस एक कॉल पर सीज होगा ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों का खाता, जानिए नया हेल्पलाइन नंबर
X

बस एक कॉल पर सीज होगा ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों का खाता, जानिए नया हेल्पलाइन नंबर

ऑनलाइन फ्रॉड संबंधित मामलों के लिए पीड़ित को 155260 डायल पर शिकायत करनी है. जिस तरह से 112 हेल्पलाइन नंबर साइबर फ्रॉड के शिकार हुए लोगों की तुरंत मदद करता था. उसी तरह इस नंबर से भी इमरजेंसी में मदद मिलेगी.

बस एक कॉल पर सीज होगा ऑनलाइन फ्रॉड करने वालों का खाता, जानिए नया हेल्पलाइन नंबर

मयूर शुक्ला/लखनऊ: भारत में बीते एक साल के दौरान ऑनलाइन फ्रॉड के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है. सस्ते ऑफर, सेकेंड हैंड फोन और नौकरी आदि का झांसा देकर कई लोग इन फर्जीवाड़े के चक्कर में फंस जाते हैं. धोखे के बाद अक्सर लोगों को एक समस्या का सामना करना पड़ता है कि इसकी शिकायत कहां पर की जाए. इसका जवाब इस रिपोर्ट में है.

मृतक आश्रित कोटे से नौकरी में धांधली, KGMU प्रशासन ने दो कर्मियों की सेवा की समाप्त

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने डिजीटल लेनदेन को और अधिक सुरक्षित बनाने के लिए एक साइबर फ्रॉड हेल्पलाइन नंबर शुरू किया है. अब से किसी भी ऑनलाइन धोखाधड़ी का शिकार होने पर आप हेल्पलाइन नंबर 155260 पर कॉल कर सकते हैं. ये प्लेटफॉर्म साइबर धोखाधड़ी में ठगे गए लोगों को उनके नुकसान को रोकने के लिए, इस तरह के मामलों की रिपोर्ट करने का आसान तरीका है.

हेल्पलाइन नंबर 155260
ऑनलाइन फ्रॉड संबंधित मामलों के लिए पीड़ित को 155260 डायल पर शिकायत करनी है. जिस तरह से 112 हेल्पलाइन नंबर साइबर फ्रॉड के शिकार हुए लोगों की तुरंत मदद करता था. उसी तरह इस नंबर से भी इमरजेंसी में मदद मिलेगी. इस तरह फ्रॉड की घटना का तत्काल प्रभाव से पता लगाया जा सकेगा और पीड़ित की समस्या का समाधान जल्दी होने की संभावना होगी. 

ऑनलाइन धोखेबाजी का शिकार होने के बाद पीड़ित को पुलिस अधिकारी द्वारा मैनेज हेल्पलाइन पर कॉल करना है. अगर फ्रॉड हुए 24 घंटे से ज्यादा हो गया है तो पीड़ित को नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर एक औपचारिक शिकायत दर्ज करनी चाहिए. अगर फ्रॉड हुए 24 घंटे से कम समय हुआ है तो ऑपरेटर फॉर्म भरने के लिए अपराध का डिटेल और पीड़ित की निजी जानकारी मांगेगा. बैंक से पैसा निकलने के 24 घंटे के भीतर  सूचना देनी होगी.

दहेज लोभी दूल्हे और उसके पिता को दुल्हन पक्ष ने सिखाया सबक, कुर्सी से बांधकर की अच्छी खातिरदारी

वर्तमान में हेल्पलाइन और इसके रिपोर्टिंग प्लेटफॉर्म में सभी प्रमुख सार्वजनिक और निजी बैंक शामिल हैं. इसमें पंजाब नेशनल बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक, इंडसइंड, ICICI, Axis, HDFC, Yes bank और कोटक महिंद्रा बैंक शामिल हैं. इसमें सभी प्रमुख वॉलेट जैसे कि Phonepe, Flipkart, paytm, Amazon, Mobikwik भी जुड़े हुए हैं. इस हेल्पलाइन की मदद से बैंक और पुलिस दोनों को कनेक्ट करने में काफी सहयोग मिलेगा और इससे रियल टाइम एक्शन में भी मदद मिलेगी.

इन राज्यों में शुरू हुई हेल्पलाइन
नेशनल हेल्पलाइन नंबर की शुरुआत सात राज्यों दिल्ली, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से हुई है. आने वाले टाइम में इस सेवा को देश के अन्य राज्यों के लिए भी जारी किया जाएगा.

हाईकोर्ट में यूपी धर्मांतरण अध्यादेश को चुनौती देने वाली सभी याचिकाएं खारिज, सरकार से मांगा जवाब

देश में पहली बार यहां पर लगाई गई 2 साल 8 महीने की बच्ची को वैक्सीन, ट्रायल में तीन आयु वर्ग के बच्चे शामिल

WATCH LIVE TV

Trending news