जितिन प्रसाद ने SP-BSP का नाम लिए बिना कहा- व्यक्ति केंद्रीय दल राज्य का भला नहीं कर सकते

गौरतलब है कि जितिन प्रसाद ने 9 जून को नई दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की थी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए इसे एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है.

जितिन प्रसाद ने SP-BSP का नाम लिए बिना कहा- व्यक्ति केंद्रीय दल राज्य का भला नहीं कर सकते
भाजपा में शामिल होने के बाद जितिन प्रसाद पहली बार लखनऊ पहुंचे जहां समर्थकों ने उनका शानदार स्वागत किया.

लखनऊ: कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थामने के बाद जितिन प्रसाद पहली बार दिल्ली से उत्तर प्रदेश के दौरे पर आए. उन्होंने लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. इस दौरान प्रदेश भाजपा मुख्यालय में आयोजित स्वागत समारोह में जितिन प्रसाद शामिल हुए. इस दौरान पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने सपा और बसपा का नाम लिए बिना उन पर निशाना साधा. जितिन ने कहा कि क्षेत्रीय दल कभी देश, प्रदेश और समाज का भला नहीं कर सकते हैं. 

यूपी चुनाव में 8 महीने और बसपा को झटके पर झटका, पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी ने दिया इस्तीफा

जितिन ने कहा कि क्षेत्रीय पार्टियों के लिए देश और प्रदेश की प्राथकिमता दूसरे नंबर पर आती है. ऐसे दल व्यक्ति विशेष के इर्द-गिर्द घूमते हैं. बीजेपी में शामिल होने की अपनी खुशी व्यक्त करते हुए प्रसाद ने कहा, ''मुझे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में बीजेपी परिवार की सदस्यता ग्रहण करने का सुअवसर मिला और आज मेरी इस नई राजनीतिक यात्रा में अपने गृह प्रदेश में आप सबके बीच आने का अवसर मिला.''

जितिन प्रसाद ने CM योगी से की मुलाकात, बोले- एक कार्यकर्ता के रूप में जीवन भर करूंगा काम

गौरतलब है कि जितिन प्रसाद ने 9 जून को नई दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की थी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के लिए इसे एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है. जितिन प्रसाद बीजेपी में शामिल होने के बाद पहली बार उत्तर प्रदेश में आए तो राजधानी लखनऊ में बीजेपी की ओर से उनका भव्य स्वागत किया गया. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि इनका जहां-जहां दौरा होगा, वहां बीजेपी का कद बढ़ेगा.

चकबंदी कराने गई पुलिस टीम पर ग्रामीणों ने किया हमला, कई पुलिसकर्मी घायल 

बीजेपी में शामिल होने पर जितिन ने कहा कि उन्होंने यह निर्णय सोच समझकर, जन भावना और समर्थकों की इच्छा के अनुरूप लिया. उन्होंने जब सोचा तो यह बात निकलकर सामने आई कि अगर देश-प्रदेश के सुनहरे भविष्य का सवाल है तो वह मोदी और बीजेपी की छत्रछाया में ही संभव है. उन्होंने कहा कि सीएम योगी के कुशल नेतृत्व में जो जनहित की योजनाएं और नीतियां चल रही हैं, मैं विश्वास दिलाता हूं कि सशक्त रूप से मेहनत करके जन जन तक पहुंचाने का प्रयास करूंगा.

आखिर ट्रैफिक सिग्नल में लाल, पीले और हरे रंग का ही क्यों होता है इस्तेमाल? जानिए यहां

बीजेपी की तारीफ करते हुए जितिन प्रसाद ने कहा, ''देश में एक ही दल (बीजेपी) रह गया है जहां कोई भी फैसला कार्यकर्ताओं की भावनाओं के अनुरूप होता है, एक ही यह पार्टी है जहां सामान्य परिवार का व्यक्ति भी शीर्ष पदों पर जा सकता है.''
जितिन प्रसाद उन 23 नेताओं में शामिल थे जिन्होंने पिछले साल कांग्रेस में सक्रिय नेतृत्व और संगठनात्मक चुनाव की मांग को लेकर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी. इसके बाद से ही वह पार्टी में हाशिए पर डाल दिए गए ​थे.

WATCH LIVE TV