श्रीराम जन्मभूमि विवाद में फैसला सुनाने वाले इलाहाबाद HC के रिटायर्ड जज धर्मवीर शर्मा का निधन

धर्मवीर शर्मा छह भाई-बहनों में सबसे बड़े थे और आजीवन अविवाहित रहे. अपने गांव से हमेशा जुड़े रहे और अक्सर जाते रहते थे. इतने बड़े और सम्मानित पद पर रहने के बावजूद वह अपना भोजन स्वयं बनाते थे.

श्रीराम जन्मभूमि विवाद में फैसला सुनाने वाले इलाहाबाद HC के रिटायर्ड जज धर्मवीर शर्मा का निधन
इलाहाबाद हाई कोर्ट के 74 वर्षीय सेवानिवृत्त जज धर्मवीर शर्मा का निधन हो गया.

बुलंदशहर: इलाहाबाद हाई कोर्ट के 74 वर्षीय सेवानिवृत्त जज धर्मवीर शर्मा का शुक्रवार को निधन हो गया. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनके निधन पर अपनी शोक संवेदनाएं प्रकट की. न्यायमूर्ति धर्मवीर शर्मा अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि विवाद पर 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ की ओर से सुनाए गए ऐतिहासिक फैसले में शामिल थे. 

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार सुभाष मिश्रा का निधन, CM योगी और राज्यपाल ने जताया दुख

उनका जन्म बुलंदशहर के दानपुर नगर के हवेली परिवार में हुआ था. वर्तमान में वह नोएडा सेक्टर 12 में रहते थे. उनके परिवार के सदस्य अंकित गौतम ने बताया कि गुरुवार रात वह पूर्ण स्वस्थ थे. शुक्रवार सुबह अचानक तबीयत बिगड़ने पर उन्हें नोएडा के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. दोपहर में उन्होंने अंतिम सांस ली।. उनके भाई सत्यदेव गौतम और श्याम गौत की मौजूदगी में गढ़मुक्तेश्वर में गंगा घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया.

बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए आगे भी नहीं खुलेंगे स्कूल, जानें क्या लिया गया फैसला

आजीवन अविवाहित रहे, स्वयं बनाते थे अपना भोजन
सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति धर्मवीर शर्मा ने 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की तीन सदस्यीय पीठ में रहते हुए राम मंदिर विवाद पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था. फैसला सुनाने के अगले दिन ही वह सेवानिवृत्त हो गए थे. धर्मवीर शर्मा छह भाई-बहनों में सबसे बड़े थे और आजीवन अविवाहित रहे. अपने गांव से हमेशा जुड़े रहे और अक्सर जाते रहते थे. इतने बड़े और सम्मानित पद पर रहने के बावजूद वह अपना भोजन स्वयं बनाते थे.

अयोध्या विवाद में पीठ के 2 जजों से अलग थी राय
श्रीराम जन्मभूमि विवाद पर फैसला सुनाने वाली इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच की तीन सदस्यीय पीठ में शामिल जस्टिस डीवी शर्मा की राय बाकी दो न्यायाधीशों जस्टिस एसयू खान और सुधीर अग्रवाल से अलग थी. जस्टिस एसयू खान और सुधीर अग्रवाल का कहना था कि विवादित परिसर की जमीन को तीन हिस्सों में बांटा जाएगा और से सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा एवं रामलला पर दावा जताने वाले हिंदू समुदाय को दिया जाएगा.

UP में दिखने लगा पाबंदियों का असर, एक हफ्ते में कम हुए 56,000 से अधिक एक्टिव केस

जबकि जस्टिस डीवी शर्मा ने पीठ के दो जजों से अपनी अलग राय देते हुए कहा था कि विवादित परिसर भगवान राम की जन्म स्थली है. इस स्थल पर मुगल शासक बाबर ने मंदिर को तोड़कर मस्जिद का निर्माण कराया था. परिसर में स्थित मस्जिद के परीक्षा के बाद यह बात साफ हो जाती है. इसलिए पूरा विवादित परिसर हिंदुओं को दिया जाए. आपको बता दें कि 9 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने श्रीराम जन्मभूमि विवाद पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए विवादित परिसर में मंदिर निर्माण की मंजूरी दी थी.

WATCH LIVE TV