Power Demand: यूपी में बिजली की मांग ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, प्रचंड गर्मी के बीच जून में एसी-कूलर सब फेल
Advertisement
trendingNow0/india/up-uttarakhand/uputtarakhand2290744

Power Demand: यूपी में बिजली की मांग ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, प्रचंड गर्मी के बीच जून में एसी-कूलर सब फेल

Power Demand in Uttar Pradesh: विद्युत मांग और आपूर्ति का नया रिकॉर्ड बना है. भीषण गर्मी में सुचारू विद्युत आपूर्ति के लिए यूपीपीसीएल अथक प्रयास में जुटा है. सीएम योगी ने प्रदेश में निर्बाध विद्युत आपूर्ति का निर्देश दिया है.

Power Crisis in Uttar Pradesh

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में प्रचंड गर्मी के बीच बिजली की मांग और आपूर्ति लगातार नए रिकॉर्ड पर पहुंच रही है. मंगलवार रात प्रदेश के इतिहास में विद्युत मांग सर्वाधिक 29,820 मेगावाट पहुंच गई, जबकि विद्युत खपत भी लगभग 643 मिलियन यूनिट तक पहुंच गई है. 31 मई को विद्युत की मांग 29,727 मेगावाट पहुंच गई थी. इसे पावर कारपोरेशन ने पूरा करके एक नया रिकॉर्ड स्थापित किया था.

2023 में 24 जुलाई को अधिकतम मांग 28,284 मेगावाट तक पहुंच गई थी, जो रिकॉर्ड था. हालांकि 2024 में 22 मई को ही यह रिकॉर्ड टूट गया, जब विद्युत मांग 28,336 मेगावाट तक पहुंच गई थी. सीएम योगी के नेतृत्व में प्रदेश में भीषण गर्मी में भी विद्युत आपूर्ति सुचारू रखने के निर्देश दिए गए हैं. 

कम से कम समय में ठीक कराए जा रहे लोकल फाल्ट 
उत्तर प्रदेश कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष डॉ. आशीष कुमार गोयल का कहना है कि लगातार पड़ रही भयंकर गर्मी एवं विद्युत की मांग में हो रही बढ़ोत्तरी को देखते हुए सावधानी बरती जाए. लगातार बढ़ रही विद्युत मांग के अनुरूप बिजली की व्यवस्था बनाए रखने के भरसक प्रयास किए जा रहे हैं. पावर कॉर्पोरेशन ने बिजली आपूर्ति में व्यवधान नहीं होने दिया जा रहा है. रिकॉर्ड मांग के लिए अतिरिक्त बिजली का प्रबंध भी समय पर किया जा रहा है. सिस्टम की कैपेसिटी के कारण कहीं भी रोस्टिंग नही हो रही है. लोकल फाल्ट के कारण विद्युत आपूर्ति के बाधित होने की सूचनाएं आती हैं. जहां कहीं भी लोकल फाल्ट हो उसे कम से कम समय में ठीक कर आपूर्ति बहाल करने का निर्देश है.

सबसे ज्यादा हानियों वाले फीडरों पर चलेगा चोरी रोको गहन अभियान
उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन अध्यक्ष डॉ. आशीष गोयल ने विद्युत व्यवस्था को बेहतर करने के लिए बिजली चोरी के खिलाफ अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं. सभी विद्युत वितरण निगमों के प्रबंध निदेशकों एवं मुख्य अभियंताओं को निर्देश दया गया है. ऐसे फीडर जहां लाइन हानियां सबसे ज्यादा हैं, वहां अभियान चलाकर बिजली चोरी रोकी जाए. इसमें विजिलेंस की भी मदद ली जाए. किसी को नाजायज परेशान न किया जाए. बेहतर विद्युत आपूर्ति और व्यवस्था के लिए यह जरूरी है कि विद्युत चोरी पर प्रभावी रोक लगे. ऐसे फीडर चिन्हित किए जाएं, जहां सर्वाधिक विद्युत चोरी की संभावना है. सबसे पहले वहीं अभियान चलाया जाए.

UPPCL अध्यक्ष ने प्रयागराज क्षेत्र की विद्युत व्यवस्था की समीक्षा में प्रयागराज (प्रथम) और फतेहपुर के अधीक्षण अभियंताओं को चार्जशीट देने के निर्देश दिए हैं. उनके इलाके में राजस्व, ट्रांसफार्मर मरम्मत, असिस्टेड बिलिंग, आरडीएसएस और अन्योय जनाओं की प्रगति संतोषजनक नहीं थी. अधिशाषी अभियंता कौशाम्बी तथा खागा को भी सख्त चेतावनी दी गई है.

देश में सबसे ज्यादा बिजली आपूर्ति करने वाले राज्यों में यूपी नंबर वन
उत्तर प्रदेश ने भीषण गर्मी में विद्युत की बढ़ी मांग को पूरा करने का रिकॉर्ड बनाया है. उत्तर प्रदेश ने 29,500 मेगावाट की सर्वाधिक विद्युत मांग को पूरा करते हुए देश में कीर्तिमान स्थापित किया था. ग्रिड इंडिया पॉवर सप्लाई रिपोर्ट के मुताबिक 10 जून 2024 को एक बार फिर से उत्तर प्रदेश ने देश में सर्वाधिक 28,889 मेगावाट विद्युत आपूर्ति कर महाराष्ट्र-गुजरात जैसे राज्यों को पीछे छोड़ते हुए पहला स्थान हासिल किया है. 10 जून को जारी रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश ने 28,889 मेगावाट, महाराष्ट्र ने 24,254 मेगावाट, गुजरात ने 24,231 मेगावाट, तमिलनाडु ने 16,257 मेगावाट और राजस्थान ने 16,781 मेगावाट की सर्वाधिक विद्युत आपूर्ति की मांग को पूरा किया है. उत्तर प्रदेश के बिजली विभाग ने इस वर्ष भी पीक आवर में पूरे देश में सर्वाधिक विद्युत आपूर्ति का रिकॉर्ड बनाया है.

Trending news