कासगंज और सहारनपुर हिंसा सामान्य घटनाएं हैं, इन्हें दंगे नहीं कह सकते: सीएम योगी आदित्यनाथ

कासगंज और सहारनपुर हिंसा को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सामान्य घटना बताते हुए कहा कि इन्हें दंगे नहीं कहा जा सकता. उन्होंने कहा कि दोनों ही स्थितियों में यूपी पुलिस ने स्थिति पर काबू पा लिया था.

कासगंज और सहारनपुर हिंसा सामान्य घटनाएं हैं, इन्हें दंगे नहीं कह सकते: सीएम योगी आदित्यनाथ
सीएम ने कहा-मैं पहले जैसा था अभी भी वैसा ही हूं (फाइल फोटो-IANS)
Play

नई दिल्ली: कासगंज और सहारनपुर हिंसा को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सामान्य घटना बताते हुए कहा कि इन्हें दंगे नहीं कहा जा सकता. उन्होंने कहा कि दोनों ही स्थितियों में यूपी पुलिस ने स्थिति पर काबू पा लिया था. वहीं उन्होंने उत्तर प्रदेश में अपराधियों के खिलाफ चल रहे एनकाउंटर ऑपरेशन के जारी रहने की भी बात कही. सीएम ने कहा कि, हम पहले सावधान करते हैं फिर कार्रवाई करते हैं. अगर अपराधियों द्वारा गोली चलाई जाएगी तो उन्हें इसके नतीजे भी भुगतने होंगे.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में इन सभी बातों का जिक्र किया. 21 फरवरी को उत्तर प्रदेश में इंवेस्टर्स समिट होने वाली है. यूपी सरकार को उम्मीद है कि ज्यादा से ज्यादा निवेशकों उत्तर प्रदेश में निवेश करें. उन्होंने कहा कि बीजेपी की सरकार आने के बाद अब यूपी प्रश्न प्रदेश की छवि से उबरते हुए सही मायने में उत्तर प्रदेश बन गया है.

बदली यूपी की छवि
सीएम योगी ने कहा कि एक साल पहले यूपी की छवि खराब थी. हम इस छवि को बदलने में काफी हद तक कामयाब हुए हैं. बड़े निवेशकों और उद्योग द्वारा प्रदेश में निवेश करने की रुचि दिखाना इस बात का बड़ा सबूत है.

गोली चलाई तो भुगतने होंगे नतीजे
यूपी में अपराधियों के खिलाफ चल रही कड़ी कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी. सीएम योगी ने कहा कि सरकार बनते समय ही हमने कहा था कि हम प्रदेश को अपराध मुक्त बनाएंगे. बिना किसी पक्षपात के हमने अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की. पहले उन्हें चेतावनी दी गई, फिर उन पर एक्शन लिया गया. हमने कहा, अगर किसी की हत्या की या पुलिस पर गोली चलाई तो इसके गंभीर नतीजे भुगतने होंगे. अब अपराधी खुद तख्ती लेकर बता रहे हैं कि वे अब अपराधी नहीं हैं.

यूपी में ताबड़तोड़ एनकाउंटर से अपराधियों की बंधी घिग्घी, गले में तख्ती लटकाए मांग रहे माफी

प्रशासनिक मकड़जाल पर कसी नकेल
यूपी में भाजपा की सरकार बनने के बाद सरकारी दफ्तरों में भी बायोमेट्रिक अटेंडेंस लागू की गई. वहीं फाइलों के निपटारे जैसे चीजों को भी ऑनलाइन किया गया. जिसकी सीधे यूपी सीएमओ द्वारा निगरानी की जाती है. सीएम ने कहा कि यदि कोई फाइल रुकती है तो इस बारे में अब पता चल जाता है और ऐसा होने के कारणों का पता लगाया जाता है. ऐसा होने से फाइलों के निपटारों की गति में भी तेजी आई है. उन्होंने कहा कि यदि किसी को नौकरी करनी है तो इसे जवाबदेही के साथ करना होगा.

सहारनपुर-कासगंज हिंसा सामान्य घटनाएं
सहारनपुर और कासगंज हिंसा से यूपी की बदली छवि को धक्का लगने की बात को सीएम योगी ने नकारा. उन्होंने कहा कि इस तरह के मामले सामान्य घटनाएं हैं, इन्हें आप दंगे नहीं कह सकते. घटनाओं के समय यूपी पुलिस ने स्थिति को काबू में कर लिया था. स्थितियां ऐसी नहीं बनने दी गईं कि सेना को बुलाने की जरूरत पड़े.

यूपी में करना चाहते हैं सरकारी नौकरी तो हो जाएं तैयार, योगी सरकार लाने वाली है बंपर वैकेंसी

'मैं जैसा था अभी भी वैसा ही हूं'
सीएम योगी ने मरदसों को मॉर्डन बनाने जैसे कदम उठाए हैं. ऐसे में उनके बारे में लोगों की सोच भी बदली है. सीएम ने कहा कि वे पहले जैसे ही हैं. बस उनके काम के कारण लोगों की उनके बारे में सोच बदली है. उन्होंने कहा कि, सरकार ने न सिर्फ मरदसों को पैसा दिया बल्कि उन्हें मॉर्डन बनाने में भी मदद कर रहे हैं. राज्य में सभी का विकास करेंगे. हम यूपी को अपंग नहीं होने देंगे. सीएम योगी ने उम्मीद की कि इस बार उत्तर प्रदेश को बड़ा निवेश मिलेगा. उन्होंने कहा कि ये देश की बेस्ट इंवेस्टर्स समिट होगी.