close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मैनपुरी: बच्चों की बीमारी से टूटा परिवार, मदद के लिए सरकार को लिखा खून से खत

आर्थिक रूप से परेशान हो चुके परिवार ने अपनी कुल 5 बीघा जमीन में से 4 बीघा जमीन 11 लाख रुपये में बेच दी लेकिन पैसे की पूर्ति नहीं हुई अब उनके तीसरे बच्चे में भी थैलेसीमिया के लक्षण बताए जा रहे हैं. 

मैनपुरी: बच्चों की बीमारी से टूटा परिवार, मदद के लिए सरकार को लिखा खून से खत
डीएम प्रमोद उपाध्याय ने पीड़ित परिवार को हर संभव मदद का भरोसा दिया है.

मैनपुरी: मैनपुरी में एक परिवार के लिए गंभीर बीमारी थैलेसीमिया ऐसी सिरदर्द बन गई कि परिवार आर्थिक रूप से बुरी तरह टूट चुका है. परिवार ने पीएम मोदी और सीएम योगी को खून से खत लिखा है, दरअसल परिवार के दो मासूम बच्चे थैलेसीमिया नाम की बीमारी से दो साल पहले ग्रसित है. हर माह उनका खून बदला जाता है, आर्थिक रूप से परेशान हो चुके परिवार ने अपनी कुल 5 बीघा जमीन में से 4 बीघा जमीन 11 लाख रुपये में बेच दी लेकिन पैसे की पूर्ति नहीं हुई. उनके तीसरे बच्चे में भी थैलेसीमिया के लक्षण बताए जा रहे हैं, परिवार को डीएम ने मदद का भरोसा दिया है. 

मामला किशनी इलाके के कत्तरा गांव का है, यहां के रहने बाले शिव वीर सिंह के दो मासूम बच्चों करिश्मा 8 साल और दिव्यांशु 6 साल को दो साल पहले थैलेसीमिया नाम की गंभीर हो गई. इस बीमारी के चलते बच्चों का हर माह खून बदला जाता है, जिसका एक बार का खर्चा 10 हजार रुपया आता है, पीड़ित परिवार ने सैफई से लेकर दिल्ली तक बच्चो का इलाज कराया, लेकिन कोई हल नहीं निकला. 

लाइव टीवी देखें

बच्चों के इलाज में गरीब परिवार आर्थिक रूप से टूट गया, खुद के पास 5 बीघा पैतृक जमीन थी, जिसमें से 4 बीघा जमीन परिवार ने 11 लाख रुपए में इलाज के लिए बेच दी, लेकिन बच्चे ठीक नहीं हुए, डॉक्टर इस बीमारी का स्थायी इलाज ऑपरेशन बता रहे है जिसका खर्चा 22 लाख रुपया है, पीड़ित परिवार के पास फूटी कौड़ी भी नहीं बची है, उनकी तीसरे नंबर की बच्ची राधा 2 वर्ष में भी थैलेसीमिया के लक्षण बताए जा रहे हैं. 

गंभीर बीमारी से पीड़ित बच्चों के पिता शिव वीर सिंह ने मदद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खून से खत लिखा है, डीएम प्रमोद उपाध्याय ने पीड़ित परिवार को हर संभव मदद का भरोसा दिया है.