जब तक सूरज-चांद रहेगा, राहुल तेरा नाम रहेगा'

पुलवामा में मंगलवार को आतंकी हमले में शहीद हुए राहुल रैंसवाल पंचतत्व में विलीन हो गए हैं. गुरुवार को बरेली से वायुसेना के हेलीकॉप्टर से उनका पार्थिव शरीर चम्पावत स्थित एसएसबी के हेलीपैड में उतारा गया. जिसके बाद भारत मां की जयकारों के साथ शहीद का शव विशालकाय जन समूह के बीच उनके घर पहुंचा गया. शव घर पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया. मातमी धुन के बीच डिप्टेश्वर घाट में पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया.

जब तक सूरज-चांद रहेगा, राहुल तेरा नाम रहेगा'
डिप्टेश्वर घाट पर किया गया अंतिम संस्कार

ललित मोहन भट्ट/चंपावत: पुलवामा में मंगलवार को आतंकी हमले में शहीद हुए राहुल रैंसवाल पंचतत्व में विलीन हो गए हैं. गुरुवार को बरेली से वायुसेना के हेलीकॉप्टर से उनका पार्थिव शरीर चम्पावत स्थित एसएसबी के हेलीपैड में उतारा गया. जिसके बाद भारत मां की जयकारों के साथ शहीद का शव विशालकाय जन समूह के बीच उनके घर पहुंचा गया. शव घर पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया. मातमी धुन के बीच डिप्टेश्वर घाट में पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया.

पुलवामा जिले के ख्रियू इलाके में आतंकी मुठभेड़ में शहीद हुए राहुल का शव बुधवार शाम सेना के हेलीकॉप्टर से बरेली पहुंच गया था. गुरुवार सुबह करीब 9:40 बजे हेलीकॉप्टर से उनका शव चम्पावत एसएसबी हेलीपैड पहुंचा गया.घर से छतार होते डिप्टेश्वर घाट तक निकली शव यात्रा में हजारों की भीड़ उमड़ पड़ी. 

पूरा इलाका जब तक सूरज चांद रहेगा, राहुल तेरा नाम रहेगा की गूंज से गुंजायमान हो उठा. घाट में सेना के जवानों ने पार्थिव शरीर को शस्त्र सलामी दी. दादा केशव सिंह और जय सिंह ने शहीद की चिता को मुखाग्नि दी. शहीद की अंत्येष्टि में काबिना मंत्री यशपाल आर्य, विधायक कैलाश गहतोड़ी और विधायक पूरन सिंह फत्र्याल समेत तमाम जनप्रतिनिधि और अधिकारी शामिल रहे.