close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मथुरा: PM मोदी के चैलेंज के लिए खुल गई एंट्री, जीत सकते हैं 10 लाख रुपये

इस चैलेंज की देखरेख पशुपालन मंत्रालय कर रहा है. पशुपालन मंत्रालय के मुताबिक 30 अक्टूबर तक कोई भी स्टार्ट अप अपनी एंट्री भेज सकता है.

मथुरा: PM मोदी के चैलेंज के लिए खुल गई एंट्री, जीत सकते हैं 10 लाख रुपये
(प्रतीकात्मक फोटो)

मथुरा: दूध (milk) में मिलावट दूर करने का पुख्ता उपाय बताओ,उसका स्टार्ट अप ( startup) खोलो और 10 लाख रुपये ले जाओ . पहले से स्टार्ट अप हो तो भी चलेगा पर नया प्रयोग करना होगा. इसी तरह सिंगल यूज़ प्लास्टिक दूर करने का उपाय स्टार्ट अप के माध्यम से ,नई तकनीक से सिंगल यूज़ प्लास्टिक को दूर करने में मदद करो और चैलेंज जीत लो.

वहीं डेयरी प्रोडक्ट और किसानी से संबंधित प्रोडक्ट की गुणवत्ता सुधारने,  पशुधन की ब्रीड सुधारने उनके चारे की गुणवत्ता सुधारने, डेयरी फूड प्रोडक्ट कहां से आया कहां तक गया इसकी देखरेख करने , इन प्रोडक्टस के कच्चे माल से लेकर पैकेज पैक और इनसे संबंधित प्रोसेस के लिए ई-कॉमर्स सॉलुशन देने वाले स्टार्ट अप भी इस चैलेंज में 10 लाख रुपये का ईनाम जीत सकते हैं.

ये चैलेंज हैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) का. सितंबर महीने में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मथुरा में इस चैलेंज को शुरु करने की बात की थी .अब इस चैलेंज के लिए एंट्री खुल चुकी हैं. इस चैलेंज की देखरेख पशुपालन मंत्रालय कर रहा है. पशुपालन मंत्रालय के मुताबिक 30 अक्टूबर तक कोई भी स्टार्ट अप अपनी एंट्री भेज सकता है.

चैलेंज की शुरुआत करते समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मथुरा में कहा था - "भारत के डेयरी सेक्टर को बढ़ाने के लिए नया प्रयोग,नयी तकनीक चाहिए. नये प्रयोग ग्रामीण क्षेत्रों से भी आते हैं इसलिए हम स्टार्ट अप चैलेंज शुरु कर रहे हैं. पशुपालन और दूसरे व्यवसाय किसाऊ की इनकम को बढ़ा सकते हैं,चाहे वो पशुपालन हो मछली या मधुमक्खी पालन हो. इसमें निवेश करने से कमाई हो सकती है."

चैलेंज के तहत बताए गए उपाय वाले स्टार्ट अप केटेगिरी में 7 लाख रुपये और 10 लाख रुपये का ईनाम है. इस तरह ये इनाम 1 करोड़ रुपये से ज्यादा के होंगे. वहीं जीतने वाले स्टार्ट अप को दूसरी तरह की सहायता और मेंटरशिप भी दी जाएगी. इस पूरी कवायद के लिए सरकार का मकसद युवाओं को किसान की इनकम बढ़ाने और पर्यावरण बचाने जैसे काम में नये प्रयोगों के साथ काम करने के लिए प्रेरित करना है.