देश पर कुर्बान एटा का लाल, राजकीय सम्मान के साथ आज होगा अंतिम संस्कार

जम्मू के सांबा सेक्टर में पाकिस्तान की गोलाबारी में मंगलवार (12 जून) की रात को शहीद हिए थे. वो बीएसएफ में बतौर सब इंस्पेक्टर तैनात थे.

देश पर कुर्बान एटा का लाल, राजकीय सम्मान के साथ आज होगा अंतिम संस्कार
गुरुवार सुबह शहीद का शव उनके पैतृक गांव पहुंचा.

नई दिल्ली/एटा: वतन पर कुर्बान एटा के शहीद रजनेश कुमार यादव का गुरुवार (14 जून) को उनके पैतृक गांव सदियांपुर में अंतिम संस्कार किया जाएगा. रजनेश कुमार का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव पहुंच गया है. जैसे ही उनका पार्थिव शरीर उनके गांव पहुंचा, ग्रामीणों ने 'रजनेश अमर रहे' के नारे गूंजने लगे. शहीद रजनेश का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा. आपको बता दें कि सीएम योगी ने भी शहीद रजनेश श्रद्धांजलि दी है और उनके परिजनों को 25 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है. जम्मू के सांबा सेक्टर में पाकिस्तान की गोलाबारी में मंगलवार (12 जून) की रात को शहीद हिए थे. वो बीएसएफ में बतौर सब इंस्पेक्टर तैनात थे.

ये भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: PAK ने फिर किया सीजफायर उल्लंघन, BSF के 4 जवान शहीद, 3 अन्य घायल

CM योगी ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एटा निवासी बीएसएफ के शहीद सब इंस्पेक्टर रजनेश कुमार को अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा, 'देश की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले इस वीर सपूत को हमेशा याद किया जाएगा'. उन्होंने शहीद जवान के शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए राज्य सरकार की ओर से 25 लाख रुपये आर्थिक सहायता दिये जाने की घोषणा की है. 

Mortal remains of BSF Sub-Inspector Rajnish Kumar brought to his native village in Etah

गांव में मातम पसरा
वीर सपूत के शहीद होने की खबर आते ही गांव में शोक की लहर दौड़ गई. परिजनों का भी रो-रोकर बुरा हाल है. ग्रामीणों का कहना है कि पाकिस्तान पीछे से वार करता है. वहीं, परिजनों को बेटे की शहादत पर नाज है, लेकिन उन्होंने सरकार के खिलाफ आक्रोश भी दिखाया. शहीद जवान के परिजनों ने कहा कि रोज सैनिक शहीद हो रहे हैं, लेकिन सरकार अपने दुश्मनों के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है. उन्होंने कहा कि सरकार को इसका मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए. 

अप्रैल में हुई थी घर वालों से मुलाकात
सरहद पर शहीद हुए रजनेश दो महीने पहले ही छुट्टी खत्म कर ड्यूटी पर लौटे थे. परिजनों का क्या मालूम था कि अपने बेटे से वो आखिरी बार मिल रहे हैं. साल 2012 में फर्रुखाबाद के कंपिल की रहने वाली अल्का यादव के साथ रजनेश शादी हुई थी. उनका ढाई साल का बेटा भी है.