स्कूल के बच्चों ने नहीं किया 'सलाम' तो मुस्लिम टीचर ने कर दी पिटाई

यूपी के शाहजहांपुर में एक शिक्षक पर धार्मिक तरीके से अभिनंदन ना करने पर बच्चों की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है

स्कूल के बच्चों ने नहीं किया 'सलाम' तो मुस्लिम टीचर ने कर दी पिटाई
मुस्लिम शिक्षक चांदमियां पर आरोप है कि उसने हिंदू बच्चों द्वारा सलाम ना कहने पर उनकी पिटाई कर दी है

शिवकुमार, शाहजहांपुर: यूपी के शाहजहांपुर में एक शिक्षक पर धार्मिक तरीके से अभिनंदन ना करने पर बच्चों की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है. एक मुस्लिम शिक्षक चांदमियां पर आरोप है कि उसने हिंदू बच्चों द्वारा सलाम ना कहने पर उनकी पिटाई कर दी है. इस घटना के बाद से बेसिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है और ये मामला तूल पकड़ता जा रहा है. आरोपी शिक्षक को निलंबित कर इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है.

जानकारी के मुताबिक तिलहर ब्लॉक के बिलहरी गांव में बेसिक शिक्षा विभाग के एक शिक्षक के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. आरोप है कि पूर्व माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक चांद मियां ने सलाम ना कहने पर कई बच्चों की पिटाई कर दी. बच्चों ने टीचर को गुड मॉर्निंग बोला था लेकिन चांद मियां नाम का शिक्षक बच्चों से सलाम करके अभिनंदन करने को कह रहा था. इसी बात से नाराज होकर टीचर ने कई बच्चों को बुरी तरीके से पीट दिया. इस घटना के बाद बच्चों के अभिभावकों ने गांव में निरीक्षण को आई प्रमुख सचिव डिंपल वर्मा से इसकी शिकायत की.

इस घटना के बाद बेसिक शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है. बच्चों और उनके मां बाप का आरोप है कि स्कूल का टीचर बच्चों को सलाम कहने के लिए विवश कर रहा था. हालांकि बच्चों को पीटने वाले आरोपी टीचर ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को झूठा बताया है और मामले से बचने की कोशिश कर रहा है.

इस मामले में प्रमुख सचिव डिंपल वर्मा के जांच के आदेश के बाद सोमवार को पूरा बेसिक शिक्षा विभाग का अमला गांव पहुंचा जहां अधिकारियों ने बच्चों और उनके मां बाप के बयान लिए. हालांकि बेसिक शिक्षा विभाग मामले में लीपापोती कर आरोपी टीचर को बचाने में जुटा है. अधिकारियों का कहना है कि आरोपी टीचर को सस्पेंड कर के मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

सूत्रों की मानें तो आरोपी शिक्षक धार्मिक प्रवृत्ति का है और उसे गुड मॉर्निंग कहना पसंद नहीं है. यही वजह है कि वह बच्चों से सलाम कह कर अभिनंदन करवाना चाहता था. लेकिन बच्चों और गांव वालों के विरोध के बाद अब यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है. फिलहाल एक अध्यापक के इस करतूत की वजह से इलाके के लोगों में गुस्सा भरा हुआ है.