संगम नगरी प्रयागराज से उठी योगी आदित्यनाथ को राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल करने की मांग

साधु संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने गोरक्षनाथ पीठ के पीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ को ट्रस्ट में शामिल करने की मांग की है.

संगम नगरी प्रयागराज से उठी योगी आदित्यनाथ को राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल करने की मांग
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी.

अयोध्या: अयोध्या विवाद (Ayodhya Case) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला आने के बाद राम मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र सरकार की ओर से गठित होने वाले ट्रस्ट में सीएम योगी आदित्यनाथ को शामिल करने की मांग संगम नगरी प्रयागराज से उठी है. साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने गोरक्षनाथ पीठ के पीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ को ट्रस्ट में शामिल करने की मांग की है.

उन्होंने कहा है कि राम मंदिर आंदोलन में गोरक्षनाथ पीठ के महंत और सीएम योगी के गुरु ब्रह्मलीन अवैद्यनाथ महाराज का बहुत बड़ा योगदान रहा है. महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि योगी आदित्यनाथ को सीएम होने के नाते नहीं बल्कि गोरक्षनाथ पीठ के पीठाधीश्वर की हैसियत से राम मंदिर के ट्रस्ट में शामिल किया जाना चाहिए. 

महंत नरेन्द्र गिरी ने राम मंदिर ट्रस्ट में सनानत धर्म के अलावा किसी दूसरे धर्मावलंबी को सदस्य बनाए जाने पर भी कड़ा एतराज जताया है. उन्होंने कहा है कि सैकड़ों वर्षों के लंबे संघर्षों के बाद अयोध्या विवाद का सुप्रीम कोर्ट से हल निकला है. उन्होंने कहा है कि इस ट्रस्ट में मुस्लिम या किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति को शामिल करना कतई उचित नहीं है. इससे भविष्य में फिर से विवाद की स्थिति आ सकती है.

उन्होंने ट्रस्ट में चारों पीठों के शंकराचार्यों, चारों रामा नंदा चार्यों के साथ ही अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पदेन अध्यक्ष और महामंत्री को शामिल करने की मांग की है. इसके साथ ही राम मंदिर आंदोलन से जुड़े दूसरे साधु-संतों को भी ट्रस्ट के साथ जोड़े जाने की बात कही है. महंत नरेंद्र गिरी ने कहा कि इस ट्रस्ट में किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति को जोड़ना गलत होगा. अखाड़ा परिषद ऐसे हर कदम का पुरजोर विरोध करेगा.