नेपाली नागरिकों का सोनौली बॉर्डर पर हंगामा, नेपाल सरकार के खिलाफ की नारेबाजी

नेपाली नागरिकों का कहना था कि उन्होंने 14 दिन की क्वारंटाइन अवधि पूरी कर ली है, उसके बाद भी नेपाल सरकार उनको अपने वतन लौटने नहीं दे रही है. सीमा पर काफी देर तक हंगामा होने के बाद मौके पर पहुंचा भारतीय प्रशासन उन्हें समझा-बुझाकर क्वारंटीन सेंटर लौटा लाया.

नेपाली नागरिकों का सोनौली बॉर्डर पर हंगामा, नेपाल सरकार के खिलाफ की नारेबाजी
प्रतीकात्मक फोटो

अमित त्रिपाठी/महराजगंज: भारत-नेपाल की सोनौली सीमा पर गुरुवार रात सैकड़ों की संख्या में नेपाली नागरिकों ने इकट्ठा होकर हंगामा किया. ये नेपाली नागरिक उन्हें अपने ही राष्ट्र में प्रवेश नही मिलने पर नाराज हैं. लॉकडाउन के बीच इस तरह के हंगामे को देखते हुए भारतीय प्रशासन मौके पर पहुंचा और उन्हें समझा-बुझाकर वापस क्वारंटीन सेंटर लाया गया.

नेपाल सरकार से नाराजगी की क्या है वजह?
भारत और नेपाल में चल रहे लॉकडाउन के बीच नेपाली नागरिक सोनौली सीमा पर पहुंचे, लेकन नेपाल की सुरक्षा एजेंसियों ने अपने नागरिकों को नेपाल में प्रवेश देने से मना कर दिया. इसके बाद नेपाली नागरिकों ने नेपाल सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी और जमकर हंगामा किया. नेपाली नागरिकों का कहना था कि उन्होंने 14 दिन की क्वारंटाइन अवधि पूरी कर ली है, उसके बाद भी नेपाल सरकार उनको अपने वतन लौटने नहीं दे रही है. सीमा पर काफी देर तक हंगामा होने के बाद मौके पर पहुंचा भारतीय प्रशासन उन्हें समझा-बुझाकर क्वारंटीन सेंटर लौटा लाया.

लॉकडाउन के चलते फंसे नेपाली नागरिक 
कोरोना संकट की वजह से देश में लॉकडाउन घोषित होने के बाद भारत और नेपाल की सभी सीमाओं को सील कर पब्लिक मूवमेंट्स पर रोक लगा दी गई थी. ऐेसे में बड़ी संख्या में नेपाली नागरिक भारत के अलग-अलग स्थानों पर फंसे हुए थे. जब ये नागरिक सैकड़ों की संख्या में सोनौली बॉर्डर पहुंचे तो नेपाल में इन्हें एंट्री नहीं मिली. नागरिकों की दलील है कि उन्होंने क्वारंटाइन पीरियड पूरा कर लिया है, फिर भी सर्टिफिकेट देने के बाद उन्हें नेपाल सरकार प्रवेश नहीं दे रही है.