कोरोना का कहर: निरंजनी अखाड़े का बड़ा फैसला, 17 अप्रैल को होगा कुंभ मेला समापन

रविंद्र पुरी महाराज ने बताया कि तीसरे शाही स्नान के बाद कई साधु-संतों में जुकाम के लक्षण देखने को मिल रहा है. जिसको देखते हुए हमने 17 अप्रैल को समाप्ति का निर्णय लिया है. 

कोरोना का कहर: निरंजनी अखाड़े का बड़ा फैसला, 17 अप्रैल को होगा कुंभ मेला समापन
फाइल फोटो.

हरिद्वार: हरिद्वार में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए निरंजनी अखाड़े ने 17 अप्रैल को कुंभ मेला समापन की घोषणा कर दी है. अखाड़े के सचिव रविंद्र पुरी महाराज ने कहा कि कोरोना तेजी से फैल रहा है. साधु संत और श्रद्धालु भी इसकी चपेट में आने लगे हैं. इसे देखते हुए निरंजनी अखाड़े की छावनियां 17 अप्रैल को खाली कर दी जाएंगी. 

साधु-संतों में मिल रहे लक्षण
इस दौरान रविंद्र पुरी महाराज ने बताया कि तीसरे शाही स्नान के बाद कई साधु-संतों में जुकाम के लक्षण देखने को मिल रहा है. जिसको देखते हुए हमने 17 अप्रैल को समाप्ति का निर्णय लिया है. आगे उन्होंने पंचायती अखाड़े की ओर से घोषणा करते हुए कहा कि 27 अप्रैल के शाही स्नान में 40 से 50 पंथी स्नान करेंगे और स्नान करके वापस चले जाएंगे. उन्होंने यह भी कहा कि ये निर्णय हमारा निजी निर्णय है अखाड़ा परिषद का नहीं.  

महंत नरेंद्र गिरी हुए संक्रमित
गौरतलब है कि महाकुंभ में अभी तक अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी समेत लगभग 12 अन्य संत संक्रमित हो चुके हैं. इसके अलावा कई श्रद्धालु भी संक्रमण की जद में आ चुके हैं. प्रदेश में धीरे-धीरे संक्रमण विकारल रूप ले रहा है. 

राज्य में कोरोना की स्थिति 
उत्तराखंड में गुरुवार को कोरोना संक्रमितों के सबसे ज्यादा 2220 नए मामले सामने आए हैं. ऐसे में प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़कर 116244 हो गई है. जबकि गुरुवार को नौ मरीजों की मौत हो गई. इसके साथ ही प्रदेश में मृतकों की संख्या बढ़कर 1802 हो गई. प्रदेश में कुल एक्टिव केस 12484 हैं. वहीं, 99777 मरीज अब तक ठीक होकर घर जा चुके हैं.

WATCH LIVE TV