close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक विजय मिश्रा को निषाद पार्टी ने निकाला

विजय मिश्रा ने राज्यसभा चुनाव से पहले 19 मार्च को ही ऐलान कर दिया था कि वह बीजेपी के पक्ष में वोट करेंगे. इस दौरान उन्होंने कहा था कि देश हित और प्रदेश हित में वह राज्यसभा में बीजेपी के साथ हैं.

क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक विजय मिश्रा को निषाद पार्टी ने निकाला
निषाद पार्टी ने अपने इलकौते विधायक विजय मिश्रा को पार्टी से निकाला (फाइल फोटो)

गोरखपुरः यूपी राज्यसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में मतदान करने वाले निषाद पार्टी के इकलौते विधायक विजय मिश्रा को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया. साथ ही उनकी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता भी रद्द कर दी गई. निषाद पार्टी के विधायक विजय मिश्रा भदोही के ज्ञानपुर से पार्टी के एकमात्र विधायक थे. निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय निषाद ने आज यहां कहा कि पार्टी ने क्रास वोटिंग और अनुशासनहीनता के लिये मिश्रा को पार्टी से निष्काषित कर दिया है. उनसे जब पूछा गया कि इससे क्या सपा बसपा और निषाद पार्टी के गठबंधन पर कोई असर पड़ेगा तो संजय निषाद ने कहा, ' इससे गठबंधन पर कोई असर नही पड़ेगा. विधायक आते है और चले जाते है लेकिन पार्टी की असली ताकत जनता है. '

गौरतलब है कि संजय निषाद के पुत्र प्रवीण निषाद ने अभी हाल ही में समाजवादी पार्टी के टिकट पर गोरखपुर उपचुनाव जीता था. निषाद पार्टी और पीस पार्टी ने उन्हें समर्थन दिया था. आपको बता दें कि विजय मिश्रा ने राज्यसभा चुनाव से पहले 19 मार्च को ही ऐलान कर दिया था कि वह बीजेपी के पक्ष में वोट करेंगे. इस दौरान उन्होंने कहा था कि देश हित और प्रदेश हित में वह राज्यसभा में बीजेपी के साथ हैं. विजय मिश्र द्वारा गोपीगंज में विधायक निधि और जिला पंचायत निधि से 50 करोड़ के विकास कार्यो का लोकार्पण और शिलान्यास किया है उसी मौके पर उन्होंने यह बयान दिया था.

मिश्रा ने की क्रॉस वोटिंग 
निषाद पार्टी के विधायक विजय मिश्रा ने भी बीजेपी के पक्ष में वोटिंग की. बीएसपी विधायक अनिल सिंह ने बीजेपी के पक्ष में वोट करने की बात कैमरे के समाने कही. उन्‍होंने कहा कि मैंने बीजेपी को वोट दिया है. उन्‍होंने आगे कहा कि 'मैं योगी जी को वोट दे रहा हूं. मैंने अंतरात्‍मा की की आवाज पर वोट दिया.'  उन्‍होंने कहा कि 'हम महाराज जी (योगी आदित्‍यनाथ) के आदेश का पालन करने जा रहे हैं. महाराज जी हमारे अभिभावक हैं. यह अंतररात्‍मा की आवाज है. उनकी एक साल की कार्यशैली को देखते हुए हम उनके हाथों को मजबूत करने जा रहे हैं. बीजेपी की 9 सीटें पक्‍की हैं.' 

यह भी पढ़ेंः बीजेपी की इस रणनीति के सामने पस्त हो गया सपा-बसपा गठबंधन

निर्दलीय विधायक और समाजवादी पार्टी समर्थक रघुराज प्रताप सिंह द्वारा एसपी प्रत्याशी जया बच्चन को वोट देने के बाद निर्दलीय विधायक, निषाद पार्टी और सपा के ही एक विधायक ने बीजेपी के पक्ष में वोट देने की घोषणा की. इसके बाद निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी ने भी बीजेपी के पक्ष में मतदान किया.

बीजेपी समाजवादी पार्टी के नरेश अग्रवाल को अपने पाले में लिया. इसका नतीजा यह रहा कि नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल का जो वोट सपा को या बीएसपी को मिलता वह बीजेपी के गया. नितिन अग्रवाल समाजवादी पार्टी से विधायक हैं. जबकि उनके पिता हाल ही में बीजेपी में  शामिल हुए हैं. नरेश अग्रवाल सपा द्वारा राज्यसभा चुनाव में प्रत्याशी ना बनाए जाने के बाद अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए बीजेपी का दाम थाम लिया था.

दो सपा-बीएसपी के विधायक नहीं दे सके वोट
चुनाव से ठीक पहले बीएसपी सुप्रीमो मायावती और समाजवादी पार्टी को हाईकोर्ट ने तगड़ा झटका दिया था. बांदा जेल में बंद बीएसपी के विधायक मुख्‍तार अंसारी और फिरोजाबाद जेल में बंद सपा के विधायक हरिओम यादव राज्‍यसभा चुनाव में वोट देने पर रोक लगा दी, जिससे दोनों पार्टियों का एक-एक वोट कम हो गया.

(इनपुट भाषा से)