निठारी कांड: 12वें मामले में बरी हुआ मोनिंदर पंढेर, सुरेंद्र कोहली दोषी करार

सुरेंद्र कोली पर 17 मामले दर्ज हैं. वहीं, मोनिंदर सिंह पंढेर पर 6 मामले दर्ज हैं. अब तक सुरेंद्र कोली को 11 मामलों में फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है.

निठारी कांड: 12वें मामले में बरी हुआ मोनिंदर पंढेर, सुरेंद्र कोहली दोषी करार
फाइल फोटो (DNA)

गाजियाबाद:  नोएडा के बहुचर्चित निठारी कांड के 12वें मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने शुक्रवार को सुरेंद्र कोली को दोषी करार दिया. वहीं, मोनिंदर सिंह पंढेर को बरी कर दिया है. इस मामले में कोर्ट 16 जनवरी को सुरेंद्र कोहली को सजा सुनाएगा.  

बढ़ सकती हैं पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति की मुश्किलें,  केस दर्ज करने की तैयारी में ईडी

सुरेंद्र कोहली पर दर्ज हैं कुल 17 मामले
बता दें, सुरेंद्र कोली पर 17 मामले दर्ज हैं. वहीं, मोनिंदर सिंह पंढेर पर 6 मामले दर्ज हैं. अब तक सुरेंद्र कोली को 11 मामलों में फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है. वहीं, पंढेर को तीन मामलों में बरी किया जा चुका है. बाकी के मामलों में सुरेंद्र के वकील ने  इलाहाबाद हाईकोर्ट में अपील की हुई है. 

मायावती ने केंद्र सरकार से मांगा बर्थडे गिफ्ट, कहा-  रद्द हो कृषि कानून और मिले फ्री वैक्सीन

क्या है निठारी कांड?
29 दिसंबर 2006 को नोएडा के निठारी में मोनिंदर सिंह पंधेर की कोठी के पीछे नाले में पुलिस को 19 बच्चों और महिलाओं के कंकाल मिले थे.  आरोप है कि इस कोठी में 16 लोगों की हत्या की गई. इस मामले में पुलिस ने मोनिंदर पंढेर के साथ उसके नौकर सुरेंद्र कोली को गिरफ्तार किया था. आरोप है कि कोली कोठी के रास्ते से होकर गुजरने वाले बच्चों को पकड़ कर उनके साथ कुकर्म करता और फिर उनकी हत्या कर देता था.  साल 2006 से इस मामले की छानबीन सीबीआई कर रही है. 

Video: हैलो फ्रेंड्स चाय पी लो के बाद, अब आई 'बरफ' वाली चाय

क्या है 12वां मामला?
12 नवंबर 2006 को निठारी में रहने वाली एक युवती कोठी की सफाई के लिए घर से निकली थी, इसके बाद वापस घर नहीं लौटी. जब मोनिंदर सिंह पंढेर की कोठी के पीछे से कई नर कंकाल मिले, तब यह मामला सामने आया. जानकारी के मुताबिक, शुरुआत में पुलिस ने इसमें कोई केस दर्ज नहीं की थी. 

WATCH LIVE TV