अपहरण और रंगदारी मामले में पेश न होने पर MLA अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ गैरजमानती वारंट

6 अगस्त, 2014 को गोरखपुर के ठेकेदार ऋषि कुमार पांडेय ने गौतमपल्ली थाने में एफआईआर कराई थी कि अमनमणि ने अपने साथियों के साथ उसे गाड़ी से अगवा कर लिया था. फिर रास्ते में पिटाई की और रंगदारी न देने पर जान से मारने की धमकी दी थी.

अपहरण और रंगदारी मामले में पेश न होने पर MLA अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ गैरजमानती वारंट

लखनऊ: पूर्व कैबिनेट मंत्री अमरमणि त्रिपाठी और गोरखपुर की नौतनवा सीट से निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी हुआ है. एमपीएमएलए कोर्ट ने 2014 में एक युवक का अपहरण और रंगदारी मांगने का मामला कोर्ट में विचाराधीन था. वह अपहरण के इस मामले में पेशी पर नहीं आए थे. 

6 अगस्त 2014 का है मामला
6 अगस्त, 2014 को गोरखपुर के ठेकेदार ऋषि कुमार पांडेय ने गौतमपल्ली थाने में एफआईआर कराई थी कि अमनमणि ने अपने साथियों के साथ उसे गाड़ी से अगवा कर लिया था. फिर रास्ते में पिटाई की और रंगदारी न देने पर जान से मारने की धमकी दी थी. इस मामले में पुलिस ने 28 जुलाई, 2017 को अमनमणि व अन्य आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट लगा दी थी. 

16 साल की सजा काटने के बाद भी अपनों की नजर में है गुनाहगार, बेटियों ने घर में नहीं दी जगह

अर्जी में बताया कि बीमार हैं
गुरुवार को इस मामले की सुनवाई हुई. इसमें अभियुक्त संदीप त्रिपाठी और रवि शुक्ला पेशी पर आए, लेकिन अमनमणि हाजिर नहीं हुए. उनकी तरफ से हाजिरी माफी की अर्जी दी गई थी. अर्जी में अमनमणि ने खुद को बीमार बताया था. लेकिन इसमें यह नहीं बताया गया कि वे दिल्ली के किस अस्पताल में भर्ती है और उन्हें क्या बीमारी है. इस मामले में अगली सुनवाई 11 फरवरी को होनी है.

WATCH LIVE TV