close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कल से 100 नहीं 112 डायल करने पर मिलेगी इमरजेंसी सर्विस, CM योगी करेंगे शुभारंभ

दुनिया के कई देशों की तर्ज पर यूपी में भी इमरजेंसी सेवा कॉलिंग नंबर 112 को रखा गया है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 20 सितंबर को देश की पहली एकीकृत आपातकालीन प्रतिक्रिया सहायता प्रणाली ERSS लॉन्च की थी. 

कल से 100 नहीं 112 डायल करने पर मिलेगी इमरजेंसी सर्विस, CM योगी करेंगे शुभारंभ
आपातकालीन सेवाओं के लिए अब 112 डायल करना होगा.

लथनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में रहने वालों के लिए एक बड़ी खबर है. अब आपको आपातकाल में हेल्पलाइन नंबर (Helpline number) डायल 100 की सेवाएं 112 नंबर पर मिलेगी. यानि इमरजेंसी के दौरान पुलिस, फायर, एंबुलेंस और जीवन रक्षक एजेंसियों की आपातकालीन सेवाओं (Emergency Services) से संपर्क करने के लिए अब आपको 112 डायल करना होगा. सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) कल (26 अक्टूबर) सुबह 10 बजे डायल 112 की शुभारंभ करेंगे. 

दुनिया के कई देशों की तर्ज पर यूपी में भी इमरजेंसी सेवा कॉलिंग नंबर 112 को रखा गया है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 20 सितंबर को देश की पहली एकीकृत आपातकालीन प्रतिक्रिया सहायता प्रणाली ERSS लॉन्च की थी. चंडीगढ़ में सबसे पहली यह इमरजेंसी सेवा लॉन्च की थी. एम्बुलेंस, फायर और पुलिस के अलग-अलग नंबर याद रखने की जगह अब सिर्फ एक ही नंबर 112 से सभी इमरजेंसी सेवाओं की मदद ली जा सकेगी. 

112 नंबर तकनीकी रूप से काफी एडवांस है. इसे डायल कर सभी इमरजेंसी सुविधाओं से जुड़ सकेंगे. पुलिस, फायर, एम्बुलेंस, जीवन रक्षक एजेंसीयों (जैसे SDRF) की सेवा प्राप्त की जा सकेंगी. प्रतिक्रिया सहायता प्रणाली (ERSS) की शुरुआत के चलते ऐसा हुआ था. दिल्ली में 25 सितंबर को 112 नंबर लागू हुआ था.  

ऐसा है LOGO
इस लोगो में भारतीय तिरंगे पर कॉल एक्सेप्ट का चिन्ह है, वहीं बताया गया है क ये एक राष्ट्रीय सेवा है. 112 का नीला रंग भारतीय ध्वज के अशोक चक्र से लिया गया है और तत्काल व त्वरित कार्रवाई को चिन्हित करने के लिए फॉन्ट को आगे की ओर तिरछा किया गया है. उन्होंने बताया कि लोगो में ऊपर और नीचे के दो बैंड से राज्य अैर आपातकालीन सेवा को इंगित किया गया है. दोनों बैंड के आकार यह दर्शाते हैं कि गति एक प्राथमिक आवश्यकता है.