भदोही में हिंसा फैलाने पर ओवैसी की पार्टी के जिलाध्यक्ष पर NSA

भड़काऊ भाषणों के जरिए अक्सर विवाद में रहने वाले असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM पूरे देश में और खासकर उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन आयोजित कर रही है. माना जा रहा है कि AIMIM विरोध को भड़का का उत्तर प्रदेश में अपना जनाधार बढ़ाना चाहती है ताकि आने वाले चुनावों में उसे फायदा मिल सके. हालांकि भदोही में AIMIM के जिलाध्यक्ष पर NSA यानी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई कर प्रशासन ने हिंसा करने वालों को सख्त पैगाम दिया है.

भदोही में हिंसा फैलाने पर ओवैसी की पार्टी के जिलाध्यक्ष पर NSA
फाइल: असदुद्दीन ओवैसी, AIMIM अध्यक्ष

भदोही: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान उपद्रव करने के आरोप में भदोही के AIMIM जिलाध्यक्ष समेत 3 लोगों के खिलाफ NSA यानी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की गई है. मामला 20 दिसंबर का है जब शहर में धारा 144 लगी हुई थी. आरोप है कि धारा 144 लागू होने के बावजूद आरोपियों ने भारी भीड़ के साथ CAA के विरोध में जुलूस निकाला. जुलूस के दौरान भीड़ बेकाबू हो गई थी. कुछ लोगों ने पुलिस पर पथराव किया और जम कर हंगामा किया. इस हिंसा में एक SHO 6 पुलिस वाले घायल हो गए थे. 

पुलिस ने हिंसा और बिना इजाजत विरोध प्रदर्शन करने के इस मामले में बड़ी संख्या में अज्ञात लोगों समेत कुछ लोगों के खिलाफ नामजद FIR की थी. मामले में AIMIM के जिलाध्यक्ष तनवीर हयात समेत ताविस आर्यान और सायम वासिक अंसारी को मुख्य आरोपी बनाया गया. मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने बड़ी तादाद में आरोपियों की धरपकड़ भी की. हालांकि पुलिस के मुताबिक पूरे उपद्रव के सूत्रधार AIMIM के जिलाध्यक्ष तनवीर हयात और उनके दो साथी थे.    

इस मामले में भदोही के जिलाधिकारी ने बताया, " इन तीनों के विरुद्ध, इन पर NSA निरुद्ध किया गया था 12 जनवरी 2020 को हम लोगों ने शासन को रिपोर्ट भेजा और एडवाइजरी बोर्ड की बैठक 11 फरवरी को हुई थी. 24 तारीख को उक्त तीनों अभियुक्तों के विरुद्ध NSA कन्फर्म कर दिया गया". जिलाधिकारी ने बताया कि तीनों मुख्य आरोपियों ने ही भीड़ को उकसाया था इसलिए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की गई. 

NSA लगने के बाद AIMIM के जिलाध्यक्ष तनवीर हयात और उनके साथियों की मुश्किलें बढ़नी तय मानी जा रही है. भड़काऊ भाषणों के जरिए अक्सर विवाद में रहने वाले असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM पूरे देश में और खासकर उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन आयोजित कर रही है. माना जा रहा है कि AIMIM विरोध को भड़का का उत्तर प्रदेश में अपना जनाधार बढ़ाना चाहती है ताकि आने वाले चुनावों में उसे फायदा मिल सके. हालांकि भदोही में AIMIM के जिलाध्यक्ष पर NSA यानी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई कर प्रशासन ने हिंसा करने वालों को सख्त पैगाम दिया है.