UP: विपक्ष ने लगाया सरकार पर दलितों को फर्जी मामलों में फंसाने का आरोप

बीएसपी विधायक दल के नेता लालजी वर्मा ने शून्यकाल में कार्यस्थगन नोटिस के जरिए पूर्व विधायक योगेश वर्मा सहित अपने नेताओं का मुददा उठाया.

UP: विपक्ष ने लगाया सरकार पर दलितों को फर्जी मामलों में फंसाने का आरोप
फाइल फोटो

लखनऊ: सरकार पर राजनीतिक वजहों से दलितों को फर्जी मामलों में फंसाने का आरोप लगाते हुए समूचे विपक्ष ने बुधवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा से वाकआउट किया. बीएसपी विधायक दल के नेता लालजी वर्मा ने शून्यकाल में कार्यस्थगन नोटिस के जरिए पूर्व विधायक योगेश वर्मा सहित अपने नेताओं का मुददा उठाया. उनका कहना था कि मेरठ में एससी-एसटी कानून को लेकर बीएसपी के हाल के एक प्रदर्शन के दौरान योगेश को राजनीतिक वजह से फर्जी मामले में फंसा कर उन पर रासुका लगाई गई है.

घटनास्थल पर मौजूद न होने के बावजूद बनाया निशाना
सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच इस मुददे को लेकर नोकझोंक भी हुई. उस समय सदन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद थे. संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि योगेश वर्मा उन प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे थे, जो हिंसा में लिप्त थे. बीएसपी सदस्यों का कहना था कि योगेश घटनास्थल पर थे ही नहीं. उनका आरोप था कि योगेश की पत्नी ने चूंकि मेयर का चुनाव बीजेपी उम्मीदवार को हराकर जीता था, इसलिए योगेश को निशाना बनाया जा रहा है. 

नेता प्रतिपक्ष राम गोविन्द चौधरी ने आरोप लगाया कि सरकार दलितों पर अत्याचार कर रही है. कांग्रेस के अजय कुमार लल्लू ने कहा कि विपक्ष को बोलने भी नहीं दिया जा रहा है. इसके बाद सपा, बसपा और कांग्रेस के सदस्य सदन से वाकआउट कर गए. बाद में विपक्षी सदस्यों ने विधानसभा के बाहर प्रदर्शन और नारेबाजी की.

(इनपुट भाषा से)