अयोध्या: VHP को नहीं मिली रामलला परिसर में दीपोत्सव की इजाजत, कमिश्नर को सौंपा ज्ञापन

विवादित स्थल पर दीपोत्सव की अनुमति न मिलने से आक्रोशित संतों और विहिप के नेताओं ने श्री रामलला के रिसीवर मनोज मिश्रा से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा.

अयोध्या: VHP को नहीं मिली रामलला परिसर में दीपोत्सव की इजाजत, कमिश्नर को सौंपा ज्ञापन
राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य महंत कमलनयन दास ने कहा कि संत समिति परिसर में दीप नहीं जलाएगी.

अयोध्या: अयोध्या के संत और विश्व हिंदू परिषद के लोगों ने सोमवार को श्री रामलला के रिसीवर कमिश्नर अयोध्या मनोज मिश्र से मुलाकात कर राम जन्मभूमि रामलला परिसर में दीपोत्सव में दीप जलाने की अनुमति मांगी. रिसीवर रामलला ने सुप्रीम कोर्ट के यथास्थिति के आदेश का हवाला देते हुए अनुमति देने से मना कर दिया. रिसीवर ने संतो से रामलला के स्थान पर परंपरागत त्योहारों को ही मनाने की बात कही. संतो ने रिसीवर से आग्रह किया कि रामलला के स्थान पर दीपोत्सव मनाने के लिए दीपदान की अनुमति प्रशासन दे.

अयोध्या के मंडलायुक्त व रामलला जन्मभूमि विवादित परिसर रिसीवर मनोज मिश्र से श्री राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य महंत कमलनयन दास के नेतृत्व में संत समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैया दास विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी  शरद शर्मा ने मुलाकात की. संतों ने एक मांग पत्र सौंपा, जिसमें रामलला परिसर में दीपोत्सव के दिन दीप जलाए जाने की मांग की. रिसीवर रामलला से मुलाकात के बाद न्यास के वरिष्ठ सदस्य महंत कमलनयन दास ने वार्ता पर संतुष्टि जताते हुए कहा कि रिसीवर ने अनुमति नही दी है. लेकिन, संतो की मांग रामलला पर दीपोत्सव पर दीप जलाए जाने को परंपरागत तरीके से हो रहे उत्सव के आधार पर करने की बात कही है.

रामलला के रिसीवर से मुलाकात के बाद विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने कहा कि संत जिला प्रशासन को दीपोत्सव के दिन दीपदान करेगा, जिसे जिला प्रशासन दीपोत्सव के दिन जलाए. अयोध्या में श्री रामलला के रिसीवर कमिश्नर मनोज मिश्र ने रामलला जन्मस्थान परिसर में दीप जलाने की अनुमति नही दी है. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से अपील करने का सुझाव दिया है. रिसीवर का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का पूर्व से ही आदेश है कि कोई नया कार्य नही हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट का यथा स्तिथि का आदेश है.

ये वीडियो भी देखें: