close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नोएडाः अकेले रहने वाले बुजुर्गों के लिए पुलिस तैयार करा रही है ऐप, एक क्लिक पर मिलेगी मदद

ग्रेटर नोएडा में अकेले रहने वाले डेढ़ लाख से अधिक बुजुर्गों की सुरक्षा के लिए नोएडा पुलिस एक ऐसा ऐप तैयार करा रही है, जो यहां रह रहे बुजुर्गों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी.

नोएडाः अकेले रहने वाले बुजुर्गों के लिए पुलिस तैयार करा रही है ऐप, एक क्लिक पर मिलेगी मदद
(फाइल फोटो)

नोएडाः ग्रेटर नोएडा में अकेले रहने वाले डेढ़ लाख से अधिक बुजुर्गों की सुरक्षा के लिए नोएडा पुलिस एक ऐसा ऐप तैयार करा रही है, जो यहां रह रहे बुजुर्गों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी. इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद बुजुर्गों के आपात स्थिति में होने पर जैसे ही वह ऐप का इमरजेंसी बटन दबाएंगे पुलिस तुरंत मदद के लिए इनके आवास या घटना स्थल पर पहुंचेगी और उनके परिजनों को भी इसकी जानकारी देगी. 

नोएडा पुलिस इस एप को तैयार कराकर जल्द ही लॉन्च करने की तैयारी में है. इसके लिए पुलिस अधिकारी तकनीकी विशेषज्ञों के साथ संपर्क में हैं. दरअसल, शहर में रह रहे बुजुर्गों के एकाकी जीवन और उनके साथ हो रही घटनाओं के बाद पुलिस ने यह कदम उठाया है. नौकरों और हेल्पर के सहारे ही इनका काम चलता है. ऐसे में कभी बदमाश तो कभी ये हेल्पर और नौकर ही इन्हें निशाना बनाने से नहीं चूकते. 

देखें LIVE TV

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में डेढ़ लाख से अधिक बुजुर्ग सरकारी और प्राइवेट फ्लैट में अकेले रह रहे हैं. नोएडा में एयरफोर्स, नेवी, आर्मी से जुड़े सेक्टर-15ए, 21, 25, 28, 29, 37 और 82 हैं. इसके अलावा सेक्टर-49, 51, 61, 62 स्थित केंद्रीय विहार, रेल विहार और अन्य सोसाइटी में केंद्र व राज्य से रिटायर्ड अधिकारियों के घर हैं.

'बंदरिया' से अवैध संबंधों में गई युवक की जान, हत्याकांड में पति-पत्नी गिरफ्तार 

इसके अलावा ग्रेटर नोएडा व नोएडा की हाईराइज सोसायटियों में भी पूर्व मुख्य न्यायाधीश से लेकर एक हजार से अधिक रिटायर्ड आईएएस, आईपीएस और अन्य अधिकारी रह रहे हैं. पुलिस ऐप से हर बुजुर्गों को जोड़ा जाएगा. इस ऐप से बुजुर्ग के परिजनों का मोबाइल नंबर भी जोड़ दिया जाएगा. इमरजेंसी बटन दबाने पर पुलिस और उनके परिजनों को भी जानकारी मिल जाएगी. इसके बाद पुलिस उन्हें तुरंत ही सहायता उपलब्ध कराएगी.