लूट के आरोपी थे पुलिसवाले, एसपी ने पीड़ितों को फोटो दिखाकर की पहचान, कर दिया लाइन हाजिर

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने इस मामले में तीन आरोपी पुलिसवालों को लाइन हाजिर किया है.

लूट के आरोपी थे पुलिसवाले, एसपी ने पीड़ितों को फोटो दिखाकर की पहचान, कर दिया लाइन हाजिर
दारोगा दलवीर सिंह, आफताब आलम और इंस्पेक्टर प्रदीप सिंह का फाइल फोटो.

नई दिल्ली/ लखनऊ: उत्तर प्रदेश की पुलिस के दामन में एक बार फिर दाग लगे हैं. लखनऊ के मड़ियांव थाने की पुलिस ने अपनी करतूत से खाकी का दामन दागदार कर दिया. एसएसपी कलानिधि नैथानी ने इस मामले में तीन आरोपी पुलिसवालों को लाइन हाजिर किया है. मामला इसी महीने दिवाली से पहले का बताया जा रहा है. 

दरअसल, सर्राफा कारोबारी विशाल जैन ने आरोप लगाया था कि दिवाली से पहले कारोबार के सिलसिले में आगरा से परिवार के साथ लखनऊ आए. इस दौरान सर्राफा कारोबारी को पुलिसकर्मियों ने वाहन चेकिंग के दौरान रोका. गाड़ी में चांदी और नकदी मिली, तो चोरी का बताते हुए उन्हें चौकी ले गए. चोरी में डरा धमकाकर साढ़े तीन लाख रुपये वसूलने के बाद उन्हें छोड़ दिया. मामला सामने आने के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया. एसएसपी कलानिधि नैथानी ने मामले की जांच एसपी विधानसभा राहुल मिठास को सौंपी गई. जांच के दौरान उन्होंने आरोपी पुलिसकर्मियों को तस्वीर को कारोबारी को दिखाई. फोटो में कारोबारी ने तीनों आरोपियों को पहचान लिया, जिसके बाद मामले का खुलासा हुआ.

इस जांच में इंस्पेक्टर प्रदीप सिंह, दारोगा दलवीर सिंह और आफताब आलम दोषी पाए गए, जिसके बाद तीनों को एसएसपी कलानिधि नैथानी ने लाइन हाजिर कर दिया. एसएसपी का कहना है कि तीनों के खिलाफ FIR दर्ज कराने के लिए सर्राफा व्यापारी को लखनऊ बुलाया गया है. केस दर्ज होते ही तीनों को सस्पेंड करने की कार्रवाई की जाएगी.