फादर्स डे पर बेटी ने पिता के लिए चांद पर खरीदी जमीन, सुशांत-शाहरुख के बाद तीसरी इंडियन

सहारनपुर जिले में फादर्स डे के मौके पर एक बेटी ने अपने पिता को चांद पर प्लॉट खरीद कर देने का दावा किया है. वो तीसरी भारतीय हैं जिन्होंने चांद पर जमीन खरीदी है.

फादर्स डे पर बेटी ने पिता के लिए चांद पर खरीदी जमीन, सुशांत-शाहरुख के बाद तीसरी इंडियन
विवेक गुप्ता को उनकी बेटी पूजा गुप्ता ने चांद पर 1 एकड़ जमीन गिफ्ट की है.

सहारनपुर: सहारनपुर जिले में फादर्स डे के मौके पर एक बेटी ने अपने पिता को चांद पर प्लॉट खरीद कर देने का दावा किया है. वो तीसरी भारतीय हैं जिन्होंने चांद पर जमीन खरीदी है. उनसे पहले शाहरुख खान (Shah Rukh Khan) और दिवंगत अभिनेता सुशांत राजपूत (Sushant Singh Rajput) ने भी चांद पर जमीन खरीदने का दावा कर चुके हैं. 

सहारनपुर के शिवालिक वन क्षेत्र से मिला विलुप्त 50 लाख साल पुराने हाथी का जीवाश्म

विवेक गुप्ता को उनकी बेटी पूजा गुप्ता ने चांद पर 1 एकड़ जमीन गिफ्ट की है. उन्होंने बताया कि अभी तक चांद पर मात्र तीन भारतीय लोगों ने जमीन ली हुई है. पिता विवेक गुप्ता ने बताया की इस खुशी को वह शब्दों में बयां नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि उन्हें उनकी बेटी पर गर्व है क्योंकि उनकी बेटी ने बेटों से बढ़कर इतना बड़ा तोहफा दिया है. इस लम्हे को वो हमेशा याद रखेंगे. 

पूजा गुप्ता ने बताया, ''मैं सहारनपुर में रहती हूं. मेरी शादी जांबिया में हुई है. मैं USA एंड एजेंसी में काम करती हूं और मैं अपने पापा के लिए फादर्स डे पर कुछ अलग चीज देना चाहती थी. मेरा साइंस के प्रति बहुत लगाव रहा है. इसी में मैंने देखा कि चांद पर भी जमीन खरीदी जा सकती है. तो मैंने अपने पापा को एक एकड़ जमीन चांद पर खरीद कर गिफ्ट की है. मैंने इंटरनेशनल लूनर लैंड रजिस्ट्री (International Lunar Land Regisrty) से जमीन खरीदकर पापा को गिफ्ट की है.''

हालांकि उन्होंने जमीन की कीमत का खुलासा नहीं किया है. उन्होंने कहा कि जमीन की कीमत का खुलासा नहीं करना चाहती क्योंकि मैंने गिफ्ट के तौर पर अपने पापा को यह जमीन गिफ्ट की है तो गिफ्ट की हुई चीज की कोई कीमत नहीं होती. वह बहुत अमूल्य चीज होती है. मुझे बहुत खुशी है कि मैंने अपने पापा को एक ऐसा गिफ्ट दिया जो हमेशा यादगार रहेगा. पूजा ने बताया कि माता-पिता को बच्चों में भेदभाव नहीं करना चाहिए. आज जो लड़के कर सकते हैं वह लड़कियां भी कर सकती हैं. इसलिए यह भेदभाव खत्म कर देना चाहिए.