प्रयागराज: पराली जलाने वालों पर प्रशासन सख्त, 20 लोगों पर दर्ज हुई FIR

बारा इलाके में आठ, कोरांव में चार, फूलपुर में चार, करछना में दो और हंडिया में भी दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं. ये सभी मुकदमे राजस्व विभाग की ओर से दर्ज किए गए हैं. 

प्रयागराज: पराली जलाने वालों पर प्रशासन सख्त, 20 लोगों पर दर्ज हुई FIR
प्रयागराज में पराली जलाने पर अब तक 20 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

प्रयागराज: बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पराली जलाने वालों के खिलाफ प्रशासन की कार्रवाई जारी है. प्रयागराज में पराली जलाने पर 17 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं, तीन लोगों पर पहले से ही FIR दर्ज हो चुकी है.

दरअसल, पराली जलाने की घटनाओं को लेकर प्रशासन ने सख्ती दिखाई है. अब तक जिले में 20 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है. बारा इलाके में आठ, कोरांव में चार, फूलपुर में चार, करछना में दो और हंडिया में भी दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं. ये सभी मुकदमे राजस्व विभाग की ओर से दर्ज किए गए हैं. वहीं, सेटेलाइट के जरिए 23 जगहों पर पुआल जलाने की घटनाएं भी सामने आई हैं.

पराली जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए जिलाधिकारी ने टास्क फोर्स भी बनाई है. जिसमें एसडीएम, सीओ के साथ एडीएम, एफआर को नोडल अधिकारी बनाया गया है.

गौरतलब है कि प्रदेश में पराली जलाने की घटनाओं को लेकर उत्तरप्रदेश सरकार (Uttar Pradesh Government) सख्त रूख अपनाए हुए है. कुछ ही दिन पहले प्रदेश के मुख्य सचिव (Chief Secretary) आरके तिवारी ने 26 जिलाधिकारियों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा था. साथ ही जिलाधिकारियों से पराली जलाने वालों पर की गई कार्रवाई की भी जानकारी मांगी गई थी.

आपको बता दें कि पीलीभीत और मथुरा में भी पराली जलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की गई थी. पीलीभीत में हाल ही में ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए 100 FIR दर्ज की गई. जिसमें करीब 300 किसानों को नामजद किया गया. वहीं 50 से ज्यादा किसानों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई की गई. साथ ही साथ किसानों से करीब 6 लाख से ज्यादा का जुर्माना वसूला गया.

उधर, मथुरा में भी 16 किसानों को पराली जलाने के मामले में जेल भेजने की बाता सामने आई. साथ ही लापरवाही बरतने के मामले में छाता तहसील के 2 लेखपालों को निलंबित कर दिया गया था.