प्रयागराज: मकर संक्रांति के दिन संगम तट पर स्नान करेंगे 80 लाख श्रद्धालु, तैयारियां पुरी

माघ मेला प्रशासन ने प्रयागराज के संगम तट पर मकर संक्रांति के दिन कुल 80 लाख श्रद्धालुओं के स्नान करने की संभावना जताई है.

प्रयागराज: मकर संक्रांति के दिन संगम तट पर स्नान करेंगे 80 लाख श्रद्धालु, तैयारियां पुरी
प्रयागराज में संगम तट पर बसे माघ मेले का दृश्य.

प्रयागराज: त्रिवेणी संगम तट पर लगे माघ मेले में मकर संक्रांति के अवसर पर प्रमुख स्नान कल होगा. मेला प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं. प्रशासन ने संगम तट पर 5 किलोमीटर के दायरे में 6 स्नान घाट बनाए हैं. पूरे मेले को तीन जोन और 6 सेक्टरों में गया बांटा गया है.

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मेले में 13 थाने, 38 चौकियां, और 13 फायर स्टेशन बनाए गए हैं. किसी भी खतरे से निपटने के लिए एटीएस और एसटीएफ की टीमें भी तैनात की गई हैं. पूरे माघ मेले की 200 सीसी टीवी कैमरों से निगरानी हो रही. स्नान घाटों पर जल पुलिस की तैनाती की गई है.

वहीं घाटों पर डीप वॉटर बैरिकेडिंग की व्यवस्था की गई है. कुंभ मेले की तर्ज पर माघ मेले में भी स्नान घाटों पर जाल लगाए गए हैं. पूरे मेले में त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम किया गया है. मेला क्षेत्र में रूटों का डायवर्जन भी किया गया है.

मेला प्रशासन को पौष पूर्णिमा के स्नान में 80 लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. भारतीय जनजीवन में पूर्णिमा व अमावस्या का अत्यधिक महत्व है. पौष माह की पूर्णिमा को मोक्ष की कामना रखने वाले बहुत ही शुभ मानते हैं.

इस दिन वाराणसी के दशाश्वमेध घाट व प्रयाग में त्रिवेणी संगम पर पर डुबकी लगाना बहुत ही शुभ व पवित्र माना जाता है. इस दिन स्नान के पश्चात क्षमता अनुसार दान करने का भी महत्व है-