रायबरेली में होने वाली 'प्रियंका की पाठशाला' टली, इसलिए लिया गया ये फैसला

सूत्रों के मुताबिक, पार्टी नेताओं को कार्यक्रम में बदलाव की सूचना दे दी गई है. 21 अक्टूबर को 11 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर ऐसा किया गया है.

रायबरेली में होने वाली 'प्रियंका की पाठशाला' टली, इसलिए लिया गया ये फैसला
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की फाइल फोटो.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के रायबरेली (Rae Bareli) में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) का तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर (Training Camp) टल गया है. शिविर सोमवार से शुरू होने वाला था. सूत्रों के मुताबिक, पार्टी नेताओं को कार्यक्रम में बदलाव की सूचना दे दी गई है. 21 अक्टूबर को 11 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर ऐसा किया गया है.

इस प्रशिक्षण शिविर को 2022 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए, पार्टी के कार्यक्रम से नई कमेटी के सदस्यों को परिचय कराने के लिए डिजाइन किया गया था. अब यह प्रशिक्षण शिविर संभवत: 22 अक्टूबर को आयोजित किया जाएगा, हालांकि नई तारीख की पुष्टि होना अभी बाकी है.

कार्यशाला के दौरान, कांग्रेस प्रशिक्षण सेल और सोशल मीडिया सेल के प्रमुखों को इसमें शामिल होने वालों को संबोधित करने और उनके प्रश्नों का उत्तर देने के लिए कहा गया है.
शिविर के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के भी रायबरेली का दौरा करने और पार्टी के नए सदस्यों से मिलने की संभावना है.

लाइव टीवी देखें

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि  उत्तर प्रदेश में नई कांग्रेस टीम में नए लोग शामिल हैं और उन्हें पार्टी की विचारधारा और कामकाज से परिचित होना चाहिए. वरिष्ठ नेताओं को उन्हें सिखाना है कि वे राजनीतिक परिस्थितियों से कैसे निपटें.

पार्टी नेता का कहना है कि पार्टी के नेता ऐसे समय में कार्यशाला में लगे हुए हैं, जब उन्हें कांग्रेस उम्मीदवारों के लिए प्रचार करना चाहिए. कार्यशाला उप-चुनाव के बाद आयोजित की जा सकती थी. जाहिर तौर पर चुनाव में पार्टी की जीत की संभावनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने वाला है.

(इनपुट- आईएएनएस)