close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

11 लाख रुपयों के साथ पकड़े गए राजा भैया के पिता, कहा- 'नहीं थी चुनाव की जानकारी'

राजा भैया के पिता ने आयकर विभाग को सिर्फ इतनी जानकारी दे कि वो पुष्कर में घोड़े खरीदने के लिए आए थे और राजस्थान में चुनाव की उन्हें जानकारी नहीं थी. 

11 लाख रुपयों के साथ पकड़े गए राजा भैया के पिता, कहा- 'नहीं थी चुनाव की जानकारी'
उदय प्रताप सिंह से पूछताछ करते अधिकारी.

नई दिल्ली/किशनगढ़: राजस्थान के किशनगढ़ एयरपोर्ट से उत्तर प्रदेश के बाहुबली नेता और विधायक राजा भैया के पिता उदय प्रताप सिंह को हिरासत में लिया गया है. अधिकारियों ने उनके पास से 11 लाख 50 हजार रुपए की नकदी के साथ पकड़ा है. जानकारी के मुताबिक, उदय प्रताप सिंह यहां चल रहे अंतरराष्ट्रीय पुष्कर पशु मेले में घोड़ों का सौदा करने आए थे. किशनगढ़ एयरपोर्ट के अधिकारियों ने इसकी सूचना आयकर विभाग को भी दी है. सूचना मिलते ही आयकर विभाग की टीम के अधिकारी मौके पर पहुंचे और राजा भैया के पिता से पूछताछ शुरू की. 

Raja Bhaiya father arrested in Kishangarh airport along with 11.50 lakh rupees

जानकारी के मुताबिक, यूपी के प्रतापगढ़ कुंडा के रहने वाले राजा उदय प्रताप सिंह किशनगढ़ एयरपोर्ट पर दिल्ली की फ्लाइट पकड़ने के लिए पहुंचे थे, वहां एयरपोर्ट सिक्यूरिटी ने जब उनकी तलाशी ली तो 11 लाख 50 हजार रुपये की नकदी मिली. सुरक्षाकर्मी उन्हें जांच रूम में ले गए और नकदी के बारे में डोक्यूमेंट्री एवीडेंस मांगा, लेकिन एवीडेंस पेश नहीं किया गया. देर रात तक चली कार्रवाई के बाद नकदी को सीज कर दिया गया. राजा भैया के पिता ने आयकर विभाग को सिर्फ इतनी जानकारी दे कि वो पुष्कर में घोड़े खरीदने के लिए आए थे और राजस्थान में चुनाव की उन्हें जानकारी नहीं थी. 

इन दिनों राजस्थान में विधानसभा चुनाव 2018 की आचार संहिता लगी है, जिसके चलते यहां कोई भी व्यक्ति इतनी बड़ी मात्रा में नकदी अपने साथ रखकर नहीं चल सकता. ऐसे में उदयप्रताप सिंह द्वारा सुरक्षाकर्मियों को नकदी की सही जानकारी नहीं दे पाने के कारण उन्हें हिरासत में ले लिया गया. 

आपको बता दें कि 13 नवंबर को भी सुरक्षाकर्मियों ने 16 हजार विदेशी मुद्रा सहित सलाउद्दीन नाम के युवक को पकड़ा था. युवक केरल का रहने वाला था और दुबई में काम करता था. वह अजमेर दरगाह जियारत करके विदेशी मुद्रों के साथ लौट रहा था.