VIDEO: अयोध्या से जनकपुर के लिए रवाना हुई राम बारात, 1 दिसंबर को धूमधाम से होगा विवाह

कारसेवक पुरम से निकली बारात अयोध्या, आजमगढ़ , बक्सर, पाटलिपुत्र, सीतामढ़ी, दरभंगा, बासोपट्टी होते हुए मटिहानी नेपाल पहुंचेगी.

VIDEO: अयोध्या से जनकपुर के लिए रवाना हुई राम बारात, 1 दिसंबर को धूमधाम से होगा विवाह
नेपाल में पहली बार विश्व हिंदू परिषद के धर्म यात्रा महासंघ द्वारा 108 गरीब कन्याओं का राम विवाह के दौरान सामूहिक विवाह का कार्यक्रम भी है.

अयोध्या: भगवान श्रीराम (Lord Shri Ram) की बारात अयोध्या (Ayodhya)  के कारसेवक पुरम से जनकपुर के लिए रवाना हो गई है. अयोध्या विवाद (Ayodhya Case) पर आए अहम फैसले के बाद निकाली जा रही राम की बारात इस बार बेहद खास है. साधु-संतों और बारात में शामिल हो रहे लोगों में अलग सी खुशी देखने को मिल रही है. बड़े धूमधाम से निकली राम बारात 28 नवंबर को नेपाल के जनकरपुर पहुंचेगी. जहां एक दिसंबर को श्रीराम का विवाह माता सीता से होगा.

राम बारात की इस बार की खासियत दो सुसज्जित रथ हैं. जिनमें पहली बार राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न के विग्रह के साथ स्वरूप को भी नेपाल के जनकपुर ले जाया जा रहा है. कारसेवक पुरम से निकली बारात अयोध्या, आजमगढ़ , बक्सर, पाटलिपुत्र, सीतामढ़ी, दरभंगा, बासोपट्टी होते हुए मटिहानी नेपाल पहुंचेगी. जहां जनकपुर के लोग इस बारात का भव्य स्वागत करेंगे. खास बात ये है कि, नेपाल में पहली बार विश्व हिंदू परिषद के धर्म यात्रा महासंघ द्वारा 108 गरीब कन्याओं का राम विवाह के दौरान सामूहिक विवाह का कार्यक्रम भी है. साथ ही 1100 कन्याओं का पूजन भी होगा.

 

बता दें कि राम की बारात का आयोजन विश्व हिंदू परिषद की धर्म यात्रा महासंघ द्वारा हर पांच साल में कराया जाता है. सुप्रीम कोर्ट से राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद राम की बारात में शामिल साधु-संतों, विश्व हिंदू परिषद के लोगों और न्यास से जुड़े संतों में खासा उत्साह है.
 
गौरतलब है कि, राम बारात में शामिल होने के लिए दूरदराज के राज्यों से भी बाराती पहुंचे हैं. सभी बाराती अपने आप को राम बरात में शामिल होने से बेहद गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं. बारातियों के लिए दो बसें तैयार की गई हैं. जिसमें संत बेहद उत्साहित नज़र आ रहे हैं. साधु-संत श्रीराम का जयघोष भी लगा रहे हैं. बारात में शामिल कई संत राम नाम रूपी किताब पर राम-राम लिखते हुए पूरी यात्रा करने का संकल्प लेकर आए हैं.

राम बारात की अगुवाई विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय महामंत्री राजेंद्र सिंह पंकज कर रहे हैं. कारसेवक पुरम से निकली राम बारात में दशरथ की भूमिका में संघ समिति के अध्यक्ष महंत कन्हैया दास हैं. बारात के आयोजक का कहना है कि राम बारात के जारिए भारत और नेपाल के सांस्कृतिक संबंधों को मजबूती मिलेगी. बारात में रामजन्म भूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और मणिराम दास छावनी के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास भी शामिल हैं. उनका कहना है कि राम बारात नेपाल और भारत, दोनों देशों में भाईचारा स्थापित करने का एक बड़ा माध्यम है. इस दौरान महंत कमल नयन दास ने इच्छा जताई कि भगवान राम के विवाह में सीएम योगी आदित्यनाथ भी शामिल हों.