राम मंदिर की नींव का कार्य 60% पूरा, श्रद्धालु अपनी आंखों से बनते हुए देख सकेंगे रामलला का घर

मार्च 2022 तक राम मंदिर के प्लिंथ का निर्माण पूरा हो जाएगा और उसके बाद अप्रैल 2022 से राजस्थान के बंसी पहाड़पुर के पिंक सैंड स्टोन से मंदिर निर्माण कार्य का शुरू हो जाएगा.  2023 में राम भक्त श्रद्धालु रामलला के मूल जन्म स्थान में रामलला का दर्शन कर सकेंगे. 

राम मंदिर की नींव का कार्य 60% पूरा, श्रद्धालु अपनी आंखों से बनते हुए देख सकेंगे रामलला का घर

मनमीत गुप्ता/अयोध्या: राम मंदिर गर्भगृह में भगवान श्री रामलला 2023 तक विराजमान हो जाएंगे जिसको लेकर तैयारियों का दौर तेजी से चल रहा है. विशेषज्ञों द्वारा इस पूरे निर्माण कार्य पर नजर रखी जा रही है. जानकारी के मुताबिक राम मंदिर निर्माण कार्य में नींव भराई का कार्य 60 फीसद से ज्यादा पूरा हो चुका है.

आपको भी मिल सकता पद्म अवॉर्ड, जानिए कैसे कर सकते हैं ऑनलाइन अप्लाई!

राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण कार्य को भक्त अपनी आंखों से देख सकेंगे राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट रामलला के दर्शन मार्ग से एक नए रास्ते को बनाए जाने पर कार्य कर रहा है. राम मंदिर निर्माण के लिए नींव की भराई का काम पूरे होते ही राम भक्त श्रद्धालु अपनी आंखों से रामलला के मंदिर को बनते देख सकेंगे.

नींव भराई का कार्य 60% से ज्यादा काम पूरा 
राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के ट्रस्टी डॉ अनिल मिश्र का कहना है कि राम मंदिर निर्माण कार्य में नींव भराई का कार्य 60% से ज्यादा पूर्ण हो चुका है. 44 लेयर में से 24 लेयर बनकर तैयार हो चुके हैं. 25 वीं लेयर को बनाये जाने का कार्य किया जा रहा है. इसी वर्ष सितंबर माह तक नींव निर्माण का कार्य पूरा हो जाएगा. उसके बाद अक्टूबर माह से राम मंदिर की प्लिंथ चबूतरे को बनाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा.

 राम मंदिर का प्लिंथ 15 फीट ऊंचा होगा
राम मंदिर की नींव के ऊपरी भाग में राफ्ट निर्माण किया जाएगा जो 2 मीटर से ज्यादा उचा राफ्ट निर्माण होगा. जो जमीन के 5 फिट नीचे होगा. उसके बाद प्लिंथ निर्माण शुरू होगा. राम मंदिर की प्लिंथ जमीन में 5 फीट गहरी होगी जिसको मिर्जापुर के पत्थरों से बनाया जाएगा. राम मंदिर का प्लिंथ 15 फीट ऊंचा होगा, जिसके चारों ओर पानी से बचाने के लिए ग्रेनाइट पत्थर को लगाया जाएगा.

2023 में राम भक्त श्रद्धालु रामलला के मूल जन्म स्थान में दर्शन कर सकेंगे
ट्रस्टी डॉ अनिल मिश्र का कहना है कि मार्च 2022 तक राम मंदिर के प्लिंथ का निर्माण पूरा हो जाएगा और उसके बाद अप्रैल 2022 से राजस्थान के बंसी पहाड़पुर के पिंक सैंड स्टोन से मंदिर निर्माण कार्य का शुरू हो जाएगा.  2023 में राम भक्त श्रद्धालु रामलला के मूल जन्म स्थान में रामलला का दर्शन कर सकेंगे. 

वही 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों राम मंदिर की नींव व आधारशिला पूजन कार्यक्रम के 1 वर्ष पूरे हो रहे हैं. ऐसे में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट संतो को राम मंदिर निर्माण कार्य को दिखाने का कार्य करेगा.  माना जा रहा है कि 5 अगस्त को संत समाज का राम जन्मभूमि परिसर में जमावड़ा होगा.  राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट मीडिया के माध्यम से राम मंदिर निर्माण कार्य की लाइव कवरेज भी प्रसारित कर सकता है.

बारात लेकर ससुराल पहुंचे दूल्हे के स्वागत में दुल्हन ने की ये हरकत, यूजर्स बोले-'शादी है या युद्ध’

Friendship Day 2021: कभी मिसाल थीं इन नेताओं की दोस्ती, जानें कैसे सियासत के बदलते दौर में चढ़ गई भेंट?

WATCH LIVE TV