Corona संकट के वक्त जिम्मेदारी से मनाई गई राम नवमी, बिना भीड़ के मनाया गया त्यौहार

देश में तेजी से फैलते जा रहे कोरोना वायरस ने त्यौहारों के रंग को फीका कर दिया है. बिना रौनक के आज राम नवमी का त्यौहार मनाया गया. सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए लोगों ने मंदिरों में दर्शन किए.

Corona संकट के वक्त जिम्मेदारी से मनाई गई राम नवमी, बिना भीड़ के मनाया गया त्यौहार
फाइल फोटो

अयोध्या: देश में तेजी से फैलते जा रहे कोरोना वायरस ने त्यौहारों के रंग को फीका कर दिया है. बिना रौनक के आज राम नवमी का त्यौहार मनाया गया. इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब सीएम योगी ने कन्या पूजन का कार्यक्रम आयोजित नहीं किया. वहीं अयोध्या में भी बिना भीड़ के राम जन्मोत्सव मनाया गया.

दरअसल कोरोना वायरस की वजह से देशभर में लॉकडाउन लागू किया गया है. इसी को देखते हुए गोरखनाथ मंदिर में सीएम योगी ने कन्या पूजन का आयोजन नहीं किया. यहां तक कि वो खुद भी इस बार गोरक्षनाथ मंदिर नहीं आये.

आपको बता दें कि चैत्र और शारदीय नवरात्रि में खुद गोरक्षपीठाधीश्वर और सीएम योगी आदित्यनाथ कन्याओं का पूजन करते रहे हैं. 101 कन्याओं के साथ बटुकों का भी पूजन गोरक्षनाथ मंदिर में होता रहा है. मंदिर परम्परा के अनुसार फिर गरीबों को भी भोजन कराया जाता है. पर इस बार मानव सेवा का ध्यान रखते हुए कन्या पूजन नहीं आयोजित किया गया.

अयोध्या में भी राम जन्मोत्सव धूमधाम से नहीं मनाया गया. लॉकडाउन ने राम नवमी पर अयोध्या के पांच हजार मंदिरों मे होने वाले राम जन्मोत्सव को  मंदिरों के गर्भगृहों तक सीमित कर दिया है. सरयू नदी पर जहां हर साल 15 लाख की भीड़ स्नान के लिए जुटती थी, वहां सन्नाटा पसरा रहा है.

कनक भवन, जन्मभूमि, दशरथ महल, जानकी महल, रंग महल, राम बल्लभाकुंज जैसे प्रमुख मंदिरों में बिना भीड़ के राम जन्मोत्सव मनाया गया. लोग लॉकडाउन के नियम का पालन करते हुए मंदिरों में नहीं पहुंचे.

वहीं संतों,  विश्व हिन्दू परिषद् व राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने लोगों से सरकार के आदेशों का पालन करते हुए राम नवमी मनाने की अपील की है.राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चम्पत राय ने कहा कि हिन्दू जनमानस घरों में सोशल डिस्टेंस को बनाए रखते हुए रामलला का जन्मोत्सव उत्साह के साथ मनाएं.

ये भी पढ़ें : UP में पिछले 24 घंटे में की गई 25 सैंपल्स की Covid-19 जांच, सिर्फ 1 पॉजिटिव बाकी सब नेगेटिव

आपको बता दें कि हर साल राम नवमी के अवसर पर मंदिरों में भक्तों का जमावड़ा लगता था. सुबह से ही श्रद्धालु भगवान के दर्शन के लिए मंदिर में इकट्ठा हो जाते थे. लेकिन अबकी बार कोरोना के कहर और लॉकडाउन के नियमों का पालन करने के लिए इस बार घरों में राम नवमी का त्यौहार मनाया गया है.

WATCH LIVE TV: