close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मंच पर फिर दिखा 'दर्द-ए-आजम', फफक कर रोए सांसद, बोले- 'क्रब में जाने से पहले होगा हिसाब'

आजम खान ने हाईकोर्ट से गिरफ्तारी की रोक पर मिली राहत को लेकर कहा कि मुझे इंसाफ मिला है. इंसाफ के दरों-दीवार से बहुत इंसाफ मिला है. बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जालिमों के अरमान मेरे मासूम बच्चों की तकदीरों से खेल नहीं सकते. 

मंच पर फिर दिखा 'दर्द-ए-आजम', फफक कर रोए सांसद, बोले- 'क्रब में जाने से पहले होगा हिसाब'
आजम खान ने पीएम मोदी के स्वच्छता अभियान पर भी सवाल उठाए.

रामपुर: रामपुर (Rampur) विधानसभा उपचुनाव (Assembly by-election) के लिए पहली जनसभा में आजम खान (Azam Khan) मंच पर रो दिए. चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने केंद्र और प्रदेश का सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने अपने खिलाफ हो रहे मुकदमों को गलत बताते हुए वोट मांगे. इतना ही नहीं आजम खान ने पीएम मोदी (Narendra Modi) के स्वच्छता अभियान पर सवाल उठाए.

आजम खान ने कहा कि मैं सोचता हूं तो शर्म आती है. सरकार के चलाने वालों, शासन और प्रशासन कहने वालों एक बार खुद से सवाल करो और अपने जमीर से पूछों कहा खड़े हो. उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं रहा या न रहा लेकिन इस मजमे की तस्वीर रहेगी. 

आज से 100 साल बाद यह तस्वीर छपेगी और यह कहा जाएगा कि एक यह शख्स था, जिसने ऐसी लकीर खींची, जिसके बाद कोई लकीर खींची न जा सकी. उन्होंने कहा कि मुझसे ज्यादती इनतेकाम लेने वालों याद रखना मरने के बाद कब्र में हिसाब नहीं होगा, इस जमीन पर जो करोंगे उसका हिसाब होगा.

उन्होंने विपक्षियों पर निशाना साधते हुए कहा कि देखो अभी वक्त है कहीं ऐसा न हो जब आने वाला कल मेरी बुराई लिखे तो लोग यह पढ़े कि आओ दुनिया वालों एक ऐसा शख्स भी दुनिया में पैदा हुआ, जिसने मुर्गियां चुराई, भैसे चुराई. वो डाकू था. 

लाइव टीवी देखें

रामपुर सांसद आजम खान ने हाईकोर्ट से गिरफ्तारी की रोक पर मिली राहत को लेकर कहा कि मुझे इंसाफ मिला है. इंसाफ के दरों-दीवार से बहुत इंसाफ मिला है. बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जालिमों के अरमान मेरे मासूम बच्चों की तकदीरों से खेल नहीं सकते. 

पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि मुल्क बचेगा महंगाई भी कम होगी, तामीरी (Construction) काम भी होंगे लेकिन झाड़ू हाथ मे लेकर नहीं होंगे. यह बुनियादी सोच और बुनियादी फिक्र का एक टकराव है. हिंदुस्तान की तकदीर झाड़ू हाथ में आने से नहीं बल्कि मजबूत तहरीक और मजबूत कलम आने से हिंदुस्तान की तकदीर बदलेगी.