close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आजम खान को प्रशासन ने किया भूमाफिया घोषित, जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीनें कब्जाने का आरोप

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव, रामपुर से सांसद और मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति आजम खान के खिलाफ पिछले एक सप्ताह के दौरान जमीन कब्जाने के 13 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं. 

आजम खान को प्रशासन ने किया भूमाफिया घोषित, जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीनें कब्जाने का आरोप
आजम खान पर दर्ज मुकदमों को लेकर अखिलेश यादव की 21 सदस्य जांच कमेटी बनाई है.

रामपुर: रामपुर से सांसद और सपा नेता आजम खान की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. प्रशासन ने आजम खान को भूमाफिया घोषित कर दिया है. जौहर यूनिवर्सिटी के लिए किसानों की जमीनें कब्जा करने के आरोप में प्रशासन ने ये कार्रवाई की है. उप जिला अधिकारी की तरफ से उनका नाम एंटी भू माफिया पोर्टल पर दर्ज करा दिया गया है. 

जमीन कब्जाने के 13 मुकदमे हैं दर्ज
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव, रामपुर से सांसद और मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति आजम खान के खिलाफ पिछले एक सप्ताह के दौरान जमीन कब्जाने के 13 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं. एंटी भू माफिया पोर्टल पर उन्हीं लोगों के नाम दर्ज कराए जाते हैं, जो जमीनों पर कब्जा करते हैं और उन्हें छोड़ते नहीं हैं. 

लाइव टीवी देखें

मुकदमों की विवेचना के लिए बनाई SIT
रामपुर के एसपी अजय पाल शर्मा ने बताया कि आजम खान के खिलाफ दर्ज मुकदमों की विवेचना के लिए एसआईटी बनाई गई है. उन्होंने बताया तीन सदस्यीय स्पेशल आज़म खान पर दर्ज मुकदमों की विवेचना करेगी. एसपी ने बताया की जौहर यूनिवर्सिटी में जमीन कब्जे के सम्बंध में 13 मुकदमे दर्ज हुए है. इस मामले की तफ्तीश में एक इंस्पेक्टर और दो सब इंस्पेक्टर की टीम गठित की गई है. 

सपा ने भी बनाई जांच कमेटी
आजम खान पर दर्ज मुकदमों को लेकर अखिलेश यादव की 21 सदस्य जांच कमेटी बनाई है, जो 20 जुलाई को रामपुर आ रही है. इस पर कांग्रेस नेता फैसल लाला ने अखिलेश यादव को खत लिखा है. उन्होंने बताया, 'मैंने अखिलेश यादव से ये आग्रह किया है कि आप अपने जांच दल को ये हिदायत दे कि वो उन पीड़ित परिवारों से जरूर मिले, जिनके साथ ज़ुल्म हुआ था और उनकी जमीने कब्जा कर ली गई. एक मामला जोहर यूनिवर्सिटी की जमीन का है और दूसरा यतीमखाना बस्ती का है, जहां 40 लोगों को बेघर कर जमीन पर वह काबिज हुए.