खुल गया हिंदूवादी नेता रणजीत बच्चन की हत्या का राज, दूसरी पत्नी ने बॉयफ्रेंड संग रची थी पूरी साजिश

1 फरवरी को बाइक सवार हमलावरों ने उनके सिर पर गोली मार कर उनकी हत्या कर दी थी. वारदात हजरतगंज इलाके में ग्लोबल पार्क के पास हुई थी.

खुल गया हिंदूवादी नेता रणजीत बच्चन की हत्या का राज, दूसरी पत्नी ने बॉयफ्रेंड संग रची थी पूरी साजिश
रणजीत बच्चन (फाइल फोटो)

लखनऊ: लखनऊ के चर्चित रणजीत बच्चन हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया. पुलिस के मुताबिक उसकी हत्या के पीछे कोई और नहीं बल्कि रणजीत की दूसरी पत्नी और उसके बॉयफ्रेंड का हाथ था. पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. स्मृति रणजीत की दूसरी पत्नी है. इन दोनों के बीच तलाक का मामला सुलझ नहीं रहा था. जिससे वह परेशान चल रही थी. इसी दौरान उसने अपने एक दोस्त के साथ मिलकर रणजीत बच्चन को ही रास्ते से हटाने के लिए साजिश रच डाली. 

लखनऊ पुलिस ने इस हत्याकांड के राज से पर्दा उठाते हुए बताया कि रणजीत बच्चन की दूसरी पत्नी स्मृति उससे परेशान थी. दोनों अलग हो चुके थे लेकिन तलाक का मामला कोर्ट में होने के बावजूद सुलझ नहीं रहा था. केस हल ना होने की वजह से वह दूसरी शादी नहीं कर पा रही थी. इसीलिए उसने रणजीत की हत्या कर उससे छुटकारा पाने के लिए अपने बॉयफ्रेंड का सहारा लिया था.

पुलिस और STF की टीम ने विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन के परिजनों के मोबाइल फोन की CDR यानी कॉल डिटेल रिकॉर्ड को खंगाला था जिसके बाद इस हत्याकांड का मुंबई कनेक्शन पता चला. पुलिस और STF की टीम ने मुंबई के एक इलाके से आरोपी शूटर को हिरासत में ले लिया. पुलिस के मुताबिक रणजीत बच्चन की हत्या के बाद यह शूटर ट्रेन से मुंबई भाग गया था.

क्या था मामला
रणजीत बच्चन विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष थे. 1 फरवरी को बाइक सवार हमलावरों ने उनके सिर पर गोली मार कर उनकी हत्या कर दी थी. वारदात हजरतगंज इलाके में ग्लोबल पार्क के पास हुई थी. फायरिंग के बाद हमलावर मौके से फरार हो गए. बच्चन को तुरंत लखनऊ ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया था जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. घटना के वक्त रणजीत का छोटा भाई आदित्य भी साथ था, उसे भी गोली लगी थी. हत्या के बाद दो PCR पुलिसकर्मियों, एक कांस्टेबल और एक चौकी प्रभारी सहित चार पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया था. पुलिस ने हत्या के संदिग्ध के CCTV फुटेज भी जारी किए और किसी भी संदिग्ध के ठिकाने की जानकारी के लिए 50,000 रुपये के इनाम की घोषणा भी की थी.