फुफेरे भाई ने ही किया दुष्कर्म, पुलिस ने नहीं की कार्रवाई तो रेप पीड़िता ने ट्रेन से कटकर दे दी जान

पीड़िता पिछले करीब 18 दिनों से इंसाफ के लिए कभी थाने के चक्कर लगा रही थी, तो कभी पंचायत से इंसाफ की गुहार लगा रही थी. इतने दिन बीत जाने के बाद भी जब पीड़िता को न्याय नहीं मिला, तो उसने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी.

फुफेरे भाई ने ही किया दुष्कर्म, पुलिस ने नहीं की कार्रवाई तो रेप पीड़िता ने ट्रेन से कटकर दे दी जान
पीड़िता की मौत के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया. (फोटो एएनआई)

मुरादाबाद: 'सुरक्षा आपकी, संकल्प हमारा' इस स्लोगन के साथ यूपी पुलिस आम जनता में विश्वास जगाती है, लेकिन सच्चाई क्या है ये मुरादाबाद की एक दिल दहला देने वाली घटना से साफ है. मुरादाबाद के भोजपुर थाना क्षेत्र में पुलिस सिस्टम से हारी एक दुष्कर्म पीड़िता ने मंगलवार (27 मार्च) को ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी. पीड़िता की मौत के बाद पुलिस ने रेप के आरोपी को गिरफ्तार किया.

जानकारी के मुताबिक, पीड़िता पिछले करीब 18 दिनों से इंसाफ के लिए कभी थाने के चक्कर लगा रही थी, तो कभी पंचायत से इंसाफ की गुहार लगा रही थी. इतने दिन बीत जाने के बाद भी जब पीड़िता को न्याय नहीं मिला, तो उसने ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी.

 

 

फुफेरे भाई ने किया दुष्कर्म
मृतक किशोरी के परिजनों ने बताया कि बुआ के बेटे ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किया था, जब इस बात का पता घर में चला, तो आरोपी पीड़िता से निकाह के लिए तैयार हो गया. पीड़िता के घर वाले निकाह की तैयारी कर ही रहे थे कि अचानक आरोपी आरिफ ने पीड़िता से निकाह करने से इंकार कर दिया. 

नौ मार्च को दर्ज कराया मुकदमा
पीड़िता के परिजनों ने बताया कि नौ मार्च को भोजपुर थाने में आरिफ के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया. 18 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया, वहीं पंचायत भी लगातार दोनों पक्षों से समझौते की बात कह रही थी. पुलिस की कार्रवाई से नाखुश होकर पीड़िता ने घर से 200 मीटर की दूरी पर काशीपुर रेलमार्ग पर ट्रेन के आगे कूदकर जान दे दी.

ये भी पढ़ें: मनचले से तंग कॉलेज छात्रा ने की आत्महत्या, पुलिस कार्रवाई में हुई देरी तो दे दी जान

काशीपुर रेलमार्ग पर मिला युवती का शव
मृतका की मां ने बताया कि मंगलवार (27 मार्च) को सुबह करीब 7 बजे रेप पीड़िता ने अपनी मां को शौच के लिए जंगल में जाने की बात कही थी. सुबह सात बजे से 9 बजे तक जब युवती घर नहीं आई, तो परिवार के लोग तलाश में जुट गए. तभी आसपास के लोगों ने काशीपुर रेलमार्ग पर शव पड़ा देखा. परिवार के लोगों ने मौके पर पहुंचकर पहचान की.

एक महीने बाद दर्ज हुई रिपोर्ट
मृतका के परिजनों ने बताया कि शिकायत दर्ज कराने के लिए पीड़िता और उसके परिजनों को एसएसपी कार्यलय के चक्कर लगाने पड़े तो एक महीने बाद पुलिस ने केस दर्ज किया. मृतका के भाई का आरोप है कि पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी की बजाय मामले में समझौते का दबाव बनाने में जुट गई. 

किशोरी ने आरोपी के खिलाफ दिए थे बयान
दुष्कर्म का केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने पीड़िता के 161 के बयान लिए तो उसने आरोपी के खिलाफ बयान भी दिया था. मृतका ने अपने बयान में कहा था कि आरोपी ने उससे निकाह का वादा किया था. इसी बहाने आरोपी ने पीड़िता को अपने किसी जानकार के घर बुलाया और उसका रेप किया.